जाबिर बिन हैयान (Geber)



inventor_warrior

जाबिर बिन हैयान (Geber) (721 ई. 815 ई.) जाबिर बिन हैयान का जन्म इराक़ के कूफ़ा शहर में हुआ। जाबिर बिन हैयान को रसायन विज्ञान का बाबा आदम कहा जाता है। आपने कुफ़ा में अपनी प्रयोगशाला बनाई और रसायन विज्ञान में ऐसे-ऐसे शोध किये कि दुनिया आपको संसार का प्रथम रसायन वैज्ञानिक कहने लगी। बिन हैयान

जाबिर जाबिर बिन हैयान जब छोटे थे तो उनके पिता को विद्रोह के आरोप में क़त्ल कर दिया गया। अत: उनकी पढ़ाई और पालन-पोषण की ज़िम्मेदारी उनकी माता पर आ पड़ी। उनकी साहसिक माता अपने पुत्र को अच्छी से अच्छी शिक्षा दिलाने के लिए प्रयासरत रहीं। जाबिर ने अन्थक परिश्रम और बुद्धी के बल पर विज्ञान के क्षेत्र में उच्च स्थान प्राप्त कर लिया। उन्होंने यूनानी भाषा सीखी और उसके पंडित बन गए। जाबिर ने यूनानी भाषा की कई कृतियों का अरबी भाषा में अनुवाद किया। परन्तु उन्हें रसायन शास्त्र से लगाव था। उन्होंने दूसरी विद्याओं पर भी पुस्तकें लिखीं जिनमें तर्कशास्त्र, खगोल शास्त्र, दर्शन शास्त्र, भूविज्ञान, प्रतिछाया (Reflection) आदि शामिल हैं।

जिस समय अब्बासी ख़लीफ़ा हारून रशीद ने सिंहासन संभाला तो जाबिर बिन हैयान की कीर्ति शिखर पर थी। हारून रशीद ज्ञानियों को बड़ा सम्मान देता और संरक्षकता प्रदान करता था। उसके दोनों मंत्री माविया बरमकी और जाफ़र बरमकी भी विद्या और ज्ञान को प्रोत्साहन देते थे। अत: वह युग इस्लामी दुनिया में विद्या, ज्ञान और नये विचारों की प्रगति का सुनहरा युग समझा जाता है। जाबिर को बग़दाद बुलाकर हारून रशीद से मिलवाया गया। उन्होंने रसायन विज्ञान पर अपनी पुस्तक हारून रशीद के
नाम अर्पित की। 803 ई० में जाफ़र बरमकी की हत्या हो गई। तब जाबिर बग़दाद छोड़कर कूफ़ा लौट आए और पुस्तक लेखन का कार्य शुरू कर दिया।

जाबिर बिन हैयान का नाम उस युग के महान वैज्ञानिकों में गिना जाता है। आप शोध में प्रयोगों को अनिवार्य समझते थे। अत: एक जगह लिखते हैं, “रसायन विज्ञान में सबसे आवश्यक वस्तु प्रयोग है। जो व्यक्ति अपनी विद्या का आधार प्रयोग पर नहीं रखता वह सदा ग़लती करता है। अगर तुम रसायन शास्त्र का सही ज्ञान प्राप्त करना चाहते हो तो प्रयोगों को आधार बनाओ और उसी विद्या को सही जानो जो प्रयोग से सिद्ध हो जाए।”

जाबिर के युग में रसायन शास्त्र “महूसी” तक सीमित था। महूसी वह विद्या थी जिसके द्वारा सस्ती धातुओं जैसे पारे, तांबे या चाँदी को सोने में परिवर्तित करने का प्रयास किया जाता था। परन्तु आपने अपने प्रयोगों द्वारा रसायन शास्त्र को नया रूप प्रदान किया। आप धातुओं को गलाने, अर्क निकालने, विधिपूर्वक दवाओं के सत बनाने और पदार्थों का स्वरूप बदलने के अनगिनत प्रयोग करते थे। धातुओं के बारे में उनका विचार था कि समस्त धातुएं गंधक और पारे से बनी हैं। जब दोनों पदार्थ शुद्ध रूप में एक दूसरे से रसायनिक मिश्रण के रूप में मिलते हैं तो सोना बनता है। उन्होंने रसविद्या (Alchemy) में नए शोध और विभिन्न विद्याओं का प्रयोग शुरू किया जो आज भी Distillation (आसवन) और Crystallisation (रवा) बनाने में इस्तेमाल की जा रही है। उनके काफ़ी शोध तो और कूटलिखित हैं।

जाबिर बिन हैयान ने अपनी पुस्तकों में स्टील बनाने, चमड़ा रंगने, धातुओं को शुद्ध करने, लोहे को जंग से बचाने के लिए उस पर वार्निश करने, ख़िज़ाब और इसी प्रकार की सैकड़ों वस्तुएं बनाने के तरीके बताए हैं। उन्होंने अपनी प्रयोगशाला के लिए कई यंत्र भी बनाए।

जाबिर बिन हैयान ने एक ऐसा तेजाब भी बनाया जो शोरे के तेजाब से भी अधिक शक्तिशाली था। आपके कई आविष्कार ऐसे हैं जिनसे यूरोप के वैज्ञानिकों ने लाभ उठाया।

*****

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s