पैग़म्बर ﷺ के बाद इस उम्मत के आलिम कौन?

وَيَقُولُ الَّذِينَ كَفَرُوا لَسْتَ مُرْسَلًا ۚ قُلْ كَفَىٰ بِاللَّهِ شَهِيدًا بَيْنِي وَبَيْنَكُمْ *وَمَنْ عِندَهُ عِلْمُ الْكِتَابِ*
(अर-रअद – 43)
और (ऐ रसूल) काफिर लोग कहते हैं कि तुम पैग़म्बर नही हो तो तुम (उनसे) कह दो कि मेरे और तुम्हारे दरमियान मेरी रिसालत की गवाही के वास्ते ख़ुदा और वह शख़्श जिसके पास किताब का इल्म है काफी है
*इस आयत के ज़ैल में हदीस ए अहलेबैत*

फुजैल बिन यासर से नक़ल है *ईमाम मोहम्मद अल बाक़र ؑ* ने कलाम ए इलाही
*وَمَنْ عِنْدَہ‘عِلْمُ الْکِتَابِ‘‘*
के बारे में फ़रमाया:- ये आयात *अली ؑ* की शान में नाज़िल हुई है , वो *पैग़म्बरﷺ* के बाद इस उम्मत के आलिम थे
فضیل بن یسار سے نقل ہے امام باقر ؑ نے کلامِ الہٰی ’’وَمَنْ عِنْدَہ‘عِلْمُ الْکِتَابِ‘‘ کے بارے میں فرمایا: یہ آیت علی ؑ کی شان میں نازل ہوئی ہے‘ وہ پیغمبر ﷺ کے بعد اس امت کے عالِم تھے۔
تفسیر العیاشی ۲/۲۲۱

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s