Nabi Pakﷺ ki baargah ke aadab wa huqooq

HUQOOQ KI ADAYGI BAHUT ZAROORI HAI AUR HAR EK SE TALLUQ KE KUCHH AADAB HOTE HAIN JISKE ADA KARNE SE DUNIYA VA AKHIRAT ME KAMYABI MILTI HAI.

RASOOLULLAH SALALAHU ALAYHI WASALLAM KE KYA HUQOOQ WA AADAB HAIN ?


Huzoor SALALAHU ALAYHI WASALLAM ki baargah ke aadab wa huqooq darje zail hain.

1️⃣.Aap SALALAHU ALAYHI WASALLAM par iman lana,

2️⃣.Aap SALALAHU ALAYHI WASALLAM ki ita`t va pairavi karna,

3️⃣. Sab se ziyadah Aap SALALAHU ALAYHI WASALLAM se muhabbat aur mawaddat karna,

4️⃣. Aap SALALAHU ALAYHI WASALLAM ke mutalliq sab se afzal hone ka aetiqad karna,

5️⃣. Aap SALALAHU ALAYHI WASALLAM ke khaatamun nabiyyeen hone ka aetiqad rakhna,

6️⃣. Aap SALALAHU ALAYHI WASALLAM ke mutalliq masoom va begunah hone ka yaqeen karna,

7️⃣. Aap SALALAHU ALAYHI WASALLAM ki adnaa (mamooli) mukhalifat se bhi apne aap ko bachana,

8️⃣. Aap SALALAHU ALAYHI WASALLAM ki muhabbat me gulu (had se aage badhna Ya’ani Allah ta’ala ke saath makhsoos sifaat ko Aap SALALAHU ALAYHI WASALLAM ke liye sabit manne) se bachna

9️⃣. Kasrat se Aap SALALAHU ALAYHI WASALLAM par duroodo salaam bhejte rehna,

🔟. Ahle bait aur Aap SALALAHU ALAYHI WASALLAM ki aalo awlad se muhabbat aur muwaddat rakhna,

1️⃣1️⃣. Sahaba Radeeyallahu anhum se muhabbat rakhna.

*1️⃣2️⃣. Aap ke laye huwe deen ko failane me apni ziyadah se ziyadah jaano maal lagana*



*🌹हुज़ूर सल्लल्लाहू अलय्हि वसल्लम के हुकूक🌹*

हुक़ूक़ की अदायगी बहुत ज़रूरी है, और हर एक से तअल्लुक़ के कुछ आदाब होते है जिस के अदा करने से दुन्या आख़िरत में कामयाबी मिलती है।
रसूलुल्लाह ﷺ के क्या हुक़ूक़ व आदाब है ?

🔵जवाब🔵
हज़ूर ﷺ की बारगाह के आदाब व हुक़ूक़ दर्जे ज़ैल है।

१। आप ﷺ पर इमान लाना।

२। आप ﷺ की इताअत व पेरवी करना।

३।सब से ज़यादा आप ﷺ से मुहब्बत और मवाद्दत करना।

४।आप ﷺ के मुताल्लिक़ सब से अफ़ज़ल होने का एतिक़ाद करना।

५।आप ﷺ के खातमुन नबीय्यीन होने का एतिक़ाद रख्ना।

६।आप ﷺ के मुताल्लिक़ मासूम व बे गुनाह होने का यक़ीन करना।

७।आप ﷺ की अदना-मामूली मुख़ालिफत से भी अपने आप को बचाना।

८।आप ﷺ की मुहब्बत में गुलु-हद से आगे बढ़ना (यानि अल्लाह ता`अला के साथ मख़सूस सिफ़त को आप ﷺ के लिए साबित मानने से बचना)

९।कसरत से आप ﷺ पर दुरूदो सलाम भेजते रेहना।

१०।अहले बैत और आप ﷺ की आलो अवलाद से मुहब्बत रख्ना।

११।सहाबा रदी अल्लाहु अन्हुम से मुहब्बत रखना।

१२।आप के लाए हुवे दीन को फैलाने में अपनी जात से ज्यादा जानो माल लगाना।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s