मौला अली अलैहिसलाम की मुआविया के लिए बददुआ।

अब्दुल रेहमान बिन Moqil ने कहा

“मैंने अली के साथ नमाज़ अदा की फिर अली ने कुनद पढ़ा और कहा. . . . . .

अय अल्लाह, मुआविया और उसके पैरोकारों को सजा दे, अमरों बिन आस और उसके पैरोकारों को सजा दे, अब्दुल्लाह बिन क़ैस और उसके पैरोकारों को सजा दे।”

अल्लाहु अकबर

ये रिवायत दो हदीस की किताबो में है, दोनों का स्कैन पेज यहाँ मैंने रखा है, ये खास कर उन लोगो के लिए है जो मुआविया को ये केह कर बचाने की कोशिश करते है की मौला अली अलैहिसलाम ने मुआविया के बारे में कुछ कहा हो तो उनका कॉल दिखाओ।

– Kanzul Ummal, Volume 8 page 420 हदीस 21989
– Musannaf Ibn Abi Shayba v.3 p.273 no.7116

90623733_2721066897991188_3992890117084676096_n90627811_2721069967990881_7239634163043663872_n90725648_2721066741324537_8828837925887148032_n90987159_2721066844657860_7488733044916879360_n

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s