आशिक़-ए-रसूल दिल्लूराम

ब्रिटिश हुकूमत के दौर की बात है एक दीवाना, मलंग, दरवेश, क़लन्दर, आशिक़-ए-रसूल दिल्लूराम बाजार में
महबूब-ए-खुदा (सल्लल्लाहु व अलैही वसल्लम) की नाते कहता फिरता था उसके हम-मज़हब उसे कोई पत्थर मरता कोई थप्पड़ मरता मगर वो दीवाना जिसका दिल इश्क़-ए-रसूल की चाशनी में डूबा हुआ था उसे न कोई परवाह थी न फ़िक़्र कोई उसके बारे में क्या कहता है वो बस इश्क़-ए-मुस्तफा में मस्त था

जिसे उसके आखिरी वक्त में हुजूर की ज़ियारत नसीब हुई और उसको कलिमा हुजूर ने पढ़ाया और “कौसरी” नाम रखा~

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s