अहलेबैत ए अतहार से मुहब्बत अल्लाह के अज़ाब से बचने का ज़रिया है

अहलेबैत ए अतहार से मुहब्बत अल्लाह के अज़ाब से बचने का ज़रिया है

रसूले आज़म नबी ए मुकर्रम सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम ने इरशाद फ़रमाया 👇👇👇👇👇

मार्फ़त ए आले मुहम्मद जहन्नम से निजात का वसीला है

हुब्बे आले मुहम्मद पुलसिरात से गुज़रने का ज़रिया है

और विलायते आले मुहम्मद अज़ाबे इलाही से अमान है

हवाला क़ुतब ए अहलेसुन्नत से 📚📚📚 ✔
✔_( ينابيع المودة 1 ص 78 /16
✔ فرائد السمطين 2 ص257 ،

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s