Jung e Badr Aur Maula Ali ع

17 Ramzan fateha e badr

Jung e Badr Aur Maula Ali ع 💚

Jung e Badr Me, Jis Waqt Mushriko’n Ke
Lashkar Se Atba, Sheba, Or Waleed Jaise
Pehelwaan Maidan Me Aa Kar, ISLAM Ke
Sipahi’on Ko Lalkara Tou Us Waqt Huzoor
Muhammad ﷺ Ke Hukm Se Hazrat Ubeda
Bin Haris ر , Hamza Bin Abdul Mutalib ع Or
Hazrat Ali Ibn Abi Talib ع , Unse Jang Karne
Ke Liye Maidan Me Aaye…
_
Hazrat Ubeda ر , Atba Ke Mukaabil..,
Hazrat Hamza ع, Sheba Ke Mukaabil..,
Or Hazrat ALI ع , Waleed Se Lardney Ke
Liye Tayyar Huye.. Morikheen Ne Bayañ
Kiya Hai Ke, Hazrat ALI ع Ne Apne
Dushman Waleed Ko Pehle Hee
Waar Me Qatal Kar’diya Tha…
Uske Baad, Wo Hazrat Hamza ع Ki
Madad Ke Liye Aaye, Or Sheba Ko Bhi
Talwar Se Do Tukre Kar Diye… Uske
Baad Hazrat Ali ع Or Hazrat Hamza ع ,
Hazrat Ubeda ر Ki Madad Ke Liye Gaye
Or Atba Ko Bhi Qatal Kar Diya…
_
Is Tarah Hazrat ALI ع , Mushrik’on Ke
Lashkar Ke 3no Pehlwanon Ke Qatal Me
Shareek Thay.., Isliye Jab Hazrat Ali ع Ne
Muwaviya Ko Khat Likha Tou Us’me
AAP ع Ne Ye Likha :: 👇👇👇👇👇
“Wo Talwar Jis’se Maine Ek Hee Din Me
Tumhare Dada (Atba), Tumhare Mama
(Waleed) Or Tumhare Bhai (Hanzala) Or
Tumhare Chacha (Sheba) Ko Qatal Kiya,
Wo Aaj Bhi Mere Pass Hai.”
_
Morikheen Ne Likha Hai ke, Jang e Badar
Me Dushman’on Ke 70 Sipahi Maarey Gaye,
Jis’me Aboo Jahal, Umeya Bin Khalf, Nazar
Bin Haris Or Dosre Kaafi Kafir’on ke Sardar
Shaamil Thay, Jis’me 35 Ko Hazrat ALI ع
Ki Talwar Se Wasael Jahannum Huye..
Uske Elawa Dosro’n Ke Qatal Me Bhi

AAP ع Ki Talwar Ne Johar Dikhaye…

Imam Ja’far Muhammad Bin Baaqir ع Se
Marwi Hai Ki Aap Farmate They ki,
Badr Ke Roz, Ek Firishte Ne Jis Ka Naam
‘Rizwan’ Tha Aasmaan Se Pukaar Kar Kaha :

La Fata Illa Ali La Sayf Illa Zulfiqar !
👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇
Nahi’n Ali ع Ke Siwa Koi Bahaadur, Aur
Nahi’n Zulfiqar Ke Siwa Koi Talwar !
_
Reference :
_
[Arjah-ul-Matalib Fi Sirat

Amir-ul-Mominin ع , Saf’h-780.]

ज़गबदर ओर #मौला_अली ع💚

जंग ए बदर में जिस वक्त मुशरिकों के
लश्कर से अतबा शेबा ओर वालिद जेसे
पेहलवान मेदान में आकर इस्लाम के सिपाहियों को ललकारा तों उस वक्त हुजूर मुहम्मद ﷺ के हुक्म से उबेदा
बीन हारिस ر , हम्ज़ा बीन अब्दुल मुतालिब ع ओर हज़रत अली इब्ने अबी तालिबع उनसे जंग करने
के लिए मेदान में आये …
_
हज़रत उबेदा ر , अतबा के मुक़ाबिल..,
हज़रत हम्ज़ा ۴, शेबा के मुक़ाबिल ..,
ओर हज़रत अली ۴ , वलिद से लडने के लिए तेयार हुए .. मोरीख ने बयान किया है के हजरत अली ۴ ने अपने
दुश्मन वलिद को पेहले ही वार में कत्ल कर दिया था ..
उनके बाद वो हज़रत हम्ज़ा ۴ की मदद के लिए आये ओर शेबा को भी तलवार से दो तुकडे कर दिया … उसके बाद हज़रत अली۴ ओर हज़रत हम्ज़ा ۴ ,
हजरत उबेदा ر की मदद के लिए गये
ओर अतबा को भी कत्ल कर दिया …
_
इस तरह हज़रत अली ۴, मुशरीकों के
लश्कर के तीनों पेहलवानों के कत्ल में
शरीक थे.., इस लिए जब हज़रत अली ۴ ने
मुवावीया को ख़त लिखा तो उसमें
आक ۴ ने ये लिखा :: 👇👇👇👇👇
“वो तलवार जिससे मेने एक ही दिन में तुम्हारे दादा (अतबा), तुम्हारे मामा
(वलीद) ओर तुम्हारे भाई (हनजला) ओर
तुम्हारे चाचा (शेबा) को कत्ल किया वो आज भी मेरे पास है.”
_
मोरीखींन ने लिखा के जंग ए बदर
में दुश्मनों के70सिपाही मारे गए जिसमें अबू जहल उमेया बीन खल्फ नजर
बीन हारिस ओर दुसरे काफी काफीरों के सरदार सामिल थे जिसमें 35को हज़रत अली ۴
की तलवार से वासिल जहन्नुम हूए ..
उसके इलावा दुसरो के कत्ल में भी

आप ۴ की तलवार ने जौह़र दिखाये …

इमाम जाफर मुहम्मद बाकिर۴ से
मरवी है कि आप फरमाते थे कि ,
बदर के रोज़ एक फरीस्ते ने जिसका नाम
‘रिजवान’ था आसमान से पूकार कर कहा :

ला फता इल्लाअली ला शैफ इल्ला जुल्फिकार !
👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇
नहीं है अली ۴ के सिवा कोई बहादुर और नहीं जुल्फिकार के सिवा कोई तलवार !
_
Reference :
_
[Arjah-ul-Matalib Fi Sirat

Amir-ul-Mominin ۴ , Saf’h-780.]

اللَّهُمَّ صَلِّ عَلَى سَيِّدِنَا مُحَمَّدٍ وَعَلَى آلِ سَيِّدِنَا مُحَمَّد ❤

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s