Khwateen ke liye namaz ka tariqa batayein ख़्वातीन के लिए नमाज़ का तरीक़ा बताएं


ख़्वातीन के लिए नमाज़ का तरीक़ा बताएं

Khwateen ke liye namaz ka tariqa batayein


ख़्वातीन नमाज़ से पहले अपने हाथों की हथेली, पैर के तलवे, और चेहरा के अलावा सारे शरीर को ढांक लें, ऐसे की न शरीर या बाल दिखे और ना ही उसकी रंगत, अब जायनमाज़ पर खड़ी हो जाएं, जायनमाज़ सीधा बिछाएं कियूंकि उल्टे जायनमाज़ पर नमाज़ पढ़ना मकरूह है लेकिन नमाज़ हो जाएगी,

नमाज़ का तरीका
सबसे पहले नमाज़ की नियत करें नमाज़ की नियत
नियत की मैने (कितनी रकअत) रकअत नमाज़ (फ़र्ज़/सुन्नत/नफ़्ल जो भी हो बोलें) वक़्ते (कोन से वक़्त की या कौन सी नमाज़) वास्ते अल्लाह तआला के रुख़ मेरा किबला शरीफ़ की तरफ़
अल्लाहु अकबर
▪️नियत करते वक़्त निगाहों को सजदे की जगह पर रखें, और फिर الله اكبر कहते हुए दोनों हांथों को कंधों तक उठाएं हथेलियां खुली हों, फिर हाथ को सीने पर ला कर रख लें, बायां नीचे और दायां ऊपर रखें, उंगलियों को फैलाना नही है,
▪️अब सना पढ़ें, इसके बाद अउज़ु बिल्लाह और बिस्मिल्लाह पढ़ें, फिर सूरह फ़ातिहा पढ़ें, अब अगर किसी सूरह को शुरू से पढ़ रही हैं तो बिस्मिल्लाह पढ़ कर कोई सूरह पढ़ें कियूंकि ये सुन्नत है, अगर सूरह शुरू से नही बल्कि बीच से पढ़ रही हैं तो बिस्मिल्लाह नही पढ़ेंगे तो भी चलेगा लेकिन पढ़ना मुस्तहब है,
▪️अब الله اكبر कहते हुए रुकू में जाएं, रुकू के लिए बस इतना झुकें की हाथ गुठने को छू जाए हाथ की उंगली मिली रहें, अब कम से कम तीन बार रुकू की तस्बीह .سبحان ربي العظيم, पढ़ें, फिर سمع الله لمن حمده कहते हुए खड़े हो जाएं और फिर ربنا لك الحمد कहें,
▪️अब الله اكبر कहते हुए सजदे में जाएं, इस तरह की पहले बायें सुरीन पर बैठ जाएं और दोनों पैरों को दाएं तरफ़ निकाल दें और फिर ऐसे ही सिमट कर सजदे में चली जाएं, रान पेट वगैरह सब मिला दें, अब कम से कम तीन बार सजदे की तस्बीह سبحان ربي الا على पढ़ें, फिर الله اكبر कहते हुए पहले सजदे से उठ कर बैठ जाएं पैर दाहिनी तरफ निकाल कर ही रखें और बायें सुरीन पर बैठें, हाथ को बीच रान पर रखें, इसे जलसा कहते हैं, इसके बाद फिर से الله اكبر कहते हुए दूसरे सजदे में जाएं और उसी तरह सजदा करें
▪️फिर الله اكبر कहते हुए सजदे से उठें और दूसरी रकअत के लिए खडी हों, और अब सिर्फ़ बिस्मिल्लाह पढ़ कर सूरह फ़ातिहा पढ़ें और पहली रकअत की तरह ही किरअत करें फिर पहली रकअत की तरह ही रुकू और सजदा करें, और दूसरे सजदे के बाद अत्तहयात के लिए बैठें इसे क़ायदा कहा जाता है
▪️अब अत्तहयात पढ़ें और जब अशहदु अल्ला इलाहा पर पहुंचे तो इलाहा पर शहादत की उंगली को उठाएं और इलल्लाह पर गिरा दें, लेकिन हिलाएं नही, इसके बाद अत्तहयात पूरी करें
▪️अब अगर दो रकअत से ज़्यादा की नमाज़ है तो तीसरी रकअत के लिए खडी हो जाएं, और अगर दो रकअत की नमाज़ है तो दुरुदे इबराहीमी और उसके बाद दुआए मासूरह पढ़ें, फिर पहले दायीं तरफ़ और फिर बायीं तरफ السلام عليكم و رحمة الله कहते हुए सलाम फेरें,

ख़याल रहे
▪️फ़र्ज़ की पहली दो रकअत में सूरह मिलाना वाजिब है, और वाजिब सुन्नत नफ़्ल की हर रकअत में सूरह मिलाना वाजिब है
▪️अगर नमाज़ के दौरान सामने से किसी का आना जाना हो सकता है तो पहले से सामने कोई चीज़ रख लें इसे सुतरह कहा जाता है,
▪️औरत जितना छुप कर नमाज़ पढती है उतना ही अफ़ज़ल होता है, कियूंकि औरतों के लिए घर के सबसे अंदर वाले कमरे में नमाज़ पढ़ना अफ़ज़ल है, हदीसे पाक है जिसका मफ़हूम है कि_
औरतों को उनके घर मे नमाज़ पढ़ना अफ़ज़ल है और घर के दालान में नमाज़ पढ़ना आंगन में पढ़ने से अफ़ज़ल है और कोठरी में नमाज़ पढ़ना दालान में पढ़ने से अफ़ज़ल है

इस लिए जब तक कोई ऐसी मजबूरी न हो कि अंदर नमाज़ नही पढी जा सकती तब पढ़ लें वरना सिर्फ हवा, सूरज, धूप इन सब के लिए ना पढ़ें, वरना अपनी अफ़ज़ालियत खो देंगी
और अगर कोई सुरत है जिसकी वजह से छत पर नमाज़ पढ़ना पड़ रहा है तो पर्दे के पूरा एहतिमाम होना चाहिए अंदाज़ा नही
▪️नमाज़ों को रौशनी यानी उजाले में नमाज़ पढ़ना अफ़ज़ल है, लेकिन अगर चांदनी सा अंधेरा हो तो नमाज़ हो जाएगी लेकिन अगर इतना अंधेरा हुआ कि कुछ भी नज़र ना आये इसमें नमाज़ पढ़ना मकरूह है कियूंकि अंधेरे में नमाज़ पढ़ने से खुशुअ और खुज़ूअ टूट जाती है और ध्यान इधर उधर भटकने लगता है,
और हर वो चीज़ जिससे खुशुअ और खुज़ूअ टूट जाती है वो चीज़ मकरूह है
▪️आर्टिफीसियल ज्वेलरी यानी सोना या चांदी के अलावा वो दूसरी धातु जैसे लोहा तांबा पीतल रोल गोल्ड इसके जेवरात या अंगूठियां को पहन कर नमाज़ पढ़ा तो मकरूहे तहरीमी होगी यानी नमाज़ को फिर से दोहराना होगा

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

khwateen namaz se pahle apne hathon ki hatheli, pair ke talwe, aur chehra ke alawa sare sharir ko dhank len, aise ki na sharir ya baal dikhe aur na hi uski rangat, ab jaynamaz par khadi ho jaen, jaynamaz sidha bichhaen kiyunki ulte jaynamaz par namaz padhna makrooh hai lekin namaz ho jaegi,

namaz ka tariqa
sabse pahle namaz ki niyat karen
namaz ki niyat
niyat ki maine (kitni rakat) rakat namaz (farz/sunnat/nafl jo bhi ho bolen) waqte (kon se waqt ki ya kaun si namaz) waste allah ta’ala ke rukh mera qibla shareef ki taraf
allahu akbar
▪niyat karte waqt nigahon ko sajde ki jagah par rakhen, aur phir الله اكبر kahte hue donon hanthon ko kandhon tak uthaen hatheliyan khuli hon, phir hath ko sine par la kar rakh len, bayan niche aur dayan upar rakhen, ungliyon ko failana nahi hai,
▪ab sana padhen, iske baad a’uzu billah aur bismillah padhen, phir surah fatiha padhen, ab agar kisi surah ko shuru se padh rahe hain to bismillah padh kar koi surah padhen kiyunki ye sunnat hai, agar surah shuru se nahi balki bich se padh rahe hain to bismillaah nahi padhenge to bhi chalega lekin padhna mustahab hai,
▪ab الله اكبر kahte hae ruku mein jaen, rukoo ke lie bas itna jhuken ki hath guthne ko chhu jae hath ki ungli mili rahen, ab kam se kam teen baar ruku ki tasbeeh .سبحان ربي العظيم padhein, fir سمع الله لمن حمده kahte hue khade ho jayein fir ربنا لك الحمد kahen,
▪ab الله اكبر kahte hue sajde mein jaen, is tarah ki pahle bayen sureen par baith jaen aur donon pairon ko daen taraf nikal den aur phir aise hi simat kar sajde mein chali jaen, raan pet wagairah sab mila den, ab kam se kam teen baar sajde ki tasbeeh سبحان ربي الا على padhen, phir الله اكبر kahte hue pahle sajde se uth kar baith jaen pair dahini taraf nikal kar hi rakhen aur bayen sureen par baithen, hath ko bich raan par rakhen, ise jalsa kahte hain, iske baad phir se الله اكبر kahte hue dusre sajde mein jaen aur usi tarah sajda karen
▪phir الله اكبر kahte hue sajde se uthen aur dusri rakat ke lie khade hon, aur ab sirf bismillah padh kar surah fatiha padhen aur pahli rakat ki tarah hi kirat karen, phir pahli rakat ki tarah hi ruku aur sajda karen, aur dusre sajde ke baad attahyaat ke lie baithen ise qayda kaha jata hai
▪ab attahyaat padhen aur jab ashhadu alla ilaha par pahunche to ilaha par shahadat ki ungli ko uthaen aur illallah par gira den, lekin hilaen nahi, iske baad attahyaat pura karen
▪ab agar do rakat se zyada ki namaz hai to tisri rakat ke lie khade ho jaen, aur agar do rakat ki namaz hai to durude ibarahimi aur uske baad duae masoorah padhen, phir pahle dayeen taraf aur phir bayeen taraf السلام عليكم و رحمة الله kahte hue salam feren,

khayal rahe
▪farz ki pahli do rakat mein surah milana wajib hai, aur wajib sunnat nafl ki har rakat mein surah milana wajib hai
▪agar namaz ke dauran samne se kisi ka aana jana ho sakta hai to pahle se samne koi chiz rakh len ise sutrah kaha jata hai,
▪aurat jitna chhup kar namaz padhti hai utna hi afzal hota hai, kiyunki auraton ke lie ghar ke sabse andar wale kamre mein namaz padhna afzal hai, hadeese paak hai jiska mafhoom hai ki_
auraton ko unke ghar me namaz padhna afzal hai aur ghar ke dallan mein namaz padhna aangan mein padhne se afzal hai aur kothri mein namaz padhna dallan mein padhne se afzal hai

is lie jab tak koi aisi majburi na ho ki andar namaz nahi padhi ja sakti tab padh len warna sirf hawa, suraj, dhoop in sab ke lie na padhen, warna apni afzaliyat kho dengi
aur agar koi surat hai jiski wajah se chhat par namaz padhna pad raha hai to parde ka pura ehtimam hona chahie sirf andaza nahi
▪namazon ko raushni yani ujale mein namaz padhna afzal hai, lekin agar chandni sa andhera ho to namaz ho jaegi, lekin agar itna andhera hai ki kuchh bhi nazar na aaye ismen namaz padhna makrooh hai kiyunki andhere mein namaz padhne se khushu aur khuzu toot jata hai aur dhyan idhar udhar bhatakne lagta hai,
aur har wo cheez jisse khushu aur khuzu toot jata hai wo cheez makrooh hai
▪ artificial jewelry yani sona ya chandi ke alawa wo dusri dhatu jaise loha tamba pital role gold iske jewrat ya anguthiyon ko pahan kar namaz padha to makroohe tahrimi hogi yani namaz ko phir se dohrana hoga

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s