सैय्यदिना सिद्दीक़े अकबर काशौक़े_दीदार

मक्का मुअज़्ज़मा में इस्लाम का पहला तालीमी और तब्लीगी मरकज़ कोहे सफा के दामन में वाक़ेअ दारे अरक़म था.. उसी में हुज़ूर नबी ए करीम ﷺ अपने साथियों को इस्लाम की तालीमात से रोशनास फरमाते- अभी मुसलमानों की तादाद 39 तक पहुंची थी कि सैय्यदिना सिद्दीक़ अकबर رضی اللّٰہ عنہ ने इस ख्वाहिश का इज़हार किया कि:
“मैं चाहता हूं कि कुफ्फार के सामने दावते इस्लाम ऐलानिया पेश करूं-“
आक़ा करीम ﷺ के मना फरमाने के बावजूद उन्होंने इसरार किया तो आप ﷺ ने इजाज़त मरहमत फरमा दी-
सैय्यदिना सिद्दीक़ अकबर رضی اللّٰہ عنہ ने लोगों के दरमियान खड़े होकर खुत्बा देना शुरू किया जबकि रसूलुल्लाह ﷺ भी तशरीफ फरमा थे- पस आप ही वो पहले खतीब (दाई) थे जिन्होंने सबसे पहले अल्लाह तआला और उसके रसूल ﷺ की तरफ लोगों को बुलाया- इस बिना पर आपको इस्लाम का “खतीबे अव्वल” कहा जाता है-

नतीजतन कुफ्फार ने आप पर हमला कर दिया और आपको इस क़द्र ज़दो कोब किया कि आप खून में लतपत हो गए- उन्होंने अपनी तरफ से आपको जान से मार देने में कोई कसर ना छोड़ी थी जब उन्होंने महसूस किया कि शायद आपकी रूह क़फसे अन्सरी से परवाज़ कर चुकी है तो उसी हालत में छोड़ कर चले गए- आपके खानदान के लोगों को पता चला तो वो आपको उठा कर घर ले गए और आपस में मशवरे के बाद फैसला किया कि हम इस ज़ुल्म का ज़रूर बदला लेंगे लेकिन अभी आपकी सांस और जिस्म का रिश्ता बरक़रार था- आपके वालिदे गिरामी अबू क़ुहाफा वालिदा और आपका खानदान आपके होश में आने के इंतज़ार में था,मगर जब होश आया और आंख खोली तो आप رضی اللّٰہ عنہ की ज़बाने अक़सद पर जारी होने वाला पहला जुमला ये था:
“रसूलुल्लाह ﷺ का क्या हाल है?”
तमाम खानदान इस बात पर नाराज़ होकर चला गया कि :
“हम तो इसकी फिक्र में हैं और इसे किसी और की फिक्र लगी हुई है-“
आपकी वालिदा आपको कोई शय खाने या पीने के लिए इसरार से कहतीं लेकिन उस आशिक़े रसूल ﷺ का हर मर्तबा यही जवाब होता कि :
“उस वक़्त तक कुछ खाऊंगा ना पिऊंगा जब तक मुझे अपने महबूब ﷺ की खबर नहीं मिल जाती कि वो किस हाल में हैं-“
लख्ते जिगर की ये हालते ज़ार देखकर आपकी वालिदा कहने लगीं:
“खुदा की क़सम ! मुझे आपके दोस्त की खबर नहीं कि वो कैसे हैं?”

आप رضی اللّٰہ عنہ ने वालिदा से कहा कि:
“हज़रत उम्मे जमील رضی اللّٰہ عنہا बिन्ते खत्ताब से हुज़ूर ﷺ के बारे में पूछ कर आओ-“
आपकी वालिदा उम्मे जमील رضی اللّٰہ عنہا के पास गईं और अबूबक्र رضی اللّٰہ عنہ का माजरा बयान किया- चूंकि उन्हे भी अपना इस्लाम खुफिया रखने का हुक्म था इसलिए उन्होंने कहा कि:
“मैं अबूबक्र رضی اللّٰہ عنہ और उनके दोस्त मुहम्मद बिन अब्दुल्लाह ﷺ को नहीं जानती- हां अगर तू चाहती है तो मैं तेरे साथ तेरे बेटे के पास चलती हूं-“
हज़रत उम्मे जमील رضی اللّٰہ عنہا आपकी वालिदा के हमराह जब सैय्यदिना सिद्दीक़ अकबर के पास आईं तो उनकी हालत देखकर अपने जज़्बात पर क़ाबू ना रख सकीं और कहने लगीं:
“मुझे उम्मीद है कि अल्लाह तआला ज़रूर उनसे तुम्हारा बदला लेगा -“
आपने फरमाया! इन बातों को छोड़ो मुझे सिर्फ ये बताओ:
“रसूलुल्लाह ﷺ का क्या हाल है?”
उन्होंने इशारा किया कि:
“आपकी वालिदा सुन रही हैं-“
आपने फरमाया:
“फिक्र ना करो बल्कि बयान करो-“
उन्होंने अर्ज़ किया:
“आप ﷺ महफूज़ और खैरियत से हैं-“
पूछा:
“आप ﷺ इस वक़्त कहां है”
उन्होंने अर्ज़ किया कि:
“आप ﷺ दारे अरक़म में ही तशरीफ फरमा हैं-“
आपने ये सुनकर फरमाया:
“मैं उस वक़्त तक खाऊंगा ना कुछ पियूंगा जब तक कि मैं अपने महबूब ﷺ को इन आंखों से बखैरियत ना देख लूं-“
शमा ए मुस्तफ्वी ﷺ के इस परवाने को सहारा देकर दारे अरक़म लाया गया- जब हुज़ूर ﷺ ने इस आशिक़े ज़ार को अपनी जानिब आते हुए देखा तो आगे बढ़ कर थाम लिया और अपने आशिक़े ज़ार पर झुक कर उसके बोसे लेना शुरू कर दिए- तमाम मुसलमान भी आपकी तरफ लपके- अपने यारे ग़मगुसार को ज़ख्मी हालत में देखकर हुज़ूर ﷺ पर अजीब रिक़्क़त तारी हो गई-
उन्होंने अर्ज़ किया कि:
“मेरी वालिदा हाज़िरे खिदमत हैं उनके लिए दुआ फरमाएं कि अल्लाह तआला उन्हे दौलते ईमान से नवाज़े-” आक़ा करीम ﷺ ने दुआ फरमाई और वो दौलते ईमान से शरफयाब हो गईं…!!!
اللهم صل على سيدنا محمد النبي الأمي
وعلى آلہ وازواجہ واھل بیتہ واصحٰبہ وبارك وسلم ❤

اللھم ربّنا آمین.

حوالہ :
ابن کثير، البدايه والنهايه (السيرة)، 3 : 230
حلبی، السيرة الحلبيه، 1 : 3475
ديار بکری، تاريخ الخميس، 1 : 4294
طبری، الرياض النضره، 1 : 397

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s