सरकार की आमद_मरहबा..

अलिफ़ ने कहा- अल्लाह का रसूल आ रहा है.
बे ने कहा- बानी-ए-इस्लाम आ रहा है.
ते ने कहा- ताजदार-ए-मदीना आ रहा है.
से ने कहा- सरूत वाला आ रहा है.
जीम ने कहा- जलील-उल-क़द्र आ रहा है.
हे ने कहा- हबीब-ए-खुदा आ रहा है.
खे ने कहा- खातिम-उन-नबीइन आ रहा है.
दाल ने कहा- दोनों जहाँ का वाली आ रहा है.
ज़ाल ने कहा- ज़ालिक-उल-किताब कहने वाला आ रहा है.
रे ने कहा- रहमतल्लिल आलमीन आ रहा है.
ज़े ने कहा- ज़माने का इमाम आ रहा है.
सीन ने कहा- साक़ी-ए-कौसर आ रहा है.
शीन ने कहा- शाफ़-ए-महशर आ रहा है.
स्वाद ने कहा- सादिक़-ओ-अमीन आ रहा है.
ज़्वाद ने कहा- ज़ईफों का मावी आ रहा है.
तो ने कहा- ताहिर-ओ-मुतहर आ रहा है.
ज़ो ने कहा- ज़ुल्म मिटाने वाला आ रहा है.
ऐन ने कहा- एनुल हक़ आ रहा है.
गैन ने कहा- ग़रीबो का मसीहा आ रहा है.
फ़े ने कहा- फ़क़ीरों का मौला आ रहा है.
काफ़ ने कहा- कमली वाला मुहम्मद आ रहा है.
क़ाफ़ ने कहा- क़ल्ब का सुकून आ रहा है.
लाम ने कहा- लौलाक का मुख़ातिब आ रहा है.
मीम ने कहा- मुहम्मद रसूलल्लाह आ रहा है.
नू ने कहा- नबियों का सरदार आ रहा है.
वाव ने कहा- वज़ज़ुहा आ रहा है.
हे ने कहा- हादी-ए-बरहक़ आ रहा है.
इये ने कहा- यकतानुखी शान वाला आ रहा है.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s