एक पैग़ाम अहलेसुन्नत वल जमाअत के नाम

एक पैग़ाम अहलेसुन्नत वल जमाअत के नाम

पंजतन पाक अलैहमुस्सलाम अहलेबैत ए अतहार से बुग्ज़ो इनाद ( दुश्मनी ) रखने वाले नाम निहाद जाली पीर और जाहिल मोलवी गली गली कूचा कूचा घूम रहे हैं उनसे होशियार रहो

किसी के भी हाथ पर बैअत ( मुरीद ) होने से पहले अहलेबैत ए अतहार के मुताल्लिक़ उसका अक़ीदा पता करो क्यों की……👇👇👇👇👇

सैय्यदना अली इब्ने अबी तालिब कर्रम अल्लाहो वजहुल करीम के वसीले और फैज़ के बग़ैर कोई भी दर्जा ए विलायत को नही पंहुचा सकता

सिलसिला ए नक़्शबन्दीया के शैख़ व मुफ़स्सिर हज़रत अल्लामा क़ाज़ी सनाउल्लाह पानीपती रहमतुल्लाह अलैह अपनी तफ़्सीर में रक़म तराज़ ( लिखते ) हैं : 👇

وكان قطب الارشاد كمالات الولاية على عليه السلام ما بلغ احد من الامم السابقة درجة الاولياء الا بتسط روحه.

“हज़रत सैय्यदना अली कर्रम अल्लाहो वजहुल करीम कमालात ए विलायत के क़ुत्बे इरशाद हैं
साबिक़ा ( अगले ज़माने की ) उम्मतों में से भी कोई भी सैय्यदना अली कर्रम अल्लाहो वजहुल करीम के वसीले व फैज़ के बग़ैर दर्जा ए विलायत को नही पंहुचा
( यानी बग़ैर हज़रत मौला अली के वसीले व फैज़ के बग़ैर कोई वली नही बना )

हवाला – तफ़्सीर ए मज़हरी 02/122

शैख़ उल मशाईख़ अहमद सरहिंदी जो मुजद्दिद ए अल्फ़े सानी के लक़ब से मशहूर हैं और सिलसिला ए नक़्शबन्दीया के जलीलुल क़द्र बुज़ुर्ग हैं आप अपने मकतूब शरीफ़ 123 में फ़रमाते हैं : 👇👇👇

“हज़रत अमीरुल मोमिनीन (सैय्यदना अली इब्ने अबी तालिब कर्रम अल्लाहो वजहुल करीम) अपने जस्दे उनसरी में आने से क़ब्ल ( पहले ) भी इस मक़ाम पर फ़ाईज़ थे” .

{ बा हवाला ख़साइस अली सफ़ह 489 अज़ अल्लामा ज़हूर अहमद फ़ैज़ी }

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s