शराब नोशी

*_हर नशा आवर चीज़ हराम है और हर तरह की शराब हराम है_*

*📕 मुस्लिम,जिल्द 2,सफह 168*

*_जिस चीज़ की कसरत नशा दे उसका थोड़ा हिस्सा भी हराम है अगर चे उतने से नशा ना हो_*

*📕 अत्तमहीद,जिल्द 1,सफह 252*

*_जो दुनिया में शराब पीता है वो जन्नत में उससे महरूम रहेगा_*

*📕 बुखारी,जिल्द 2,सफह 836*

_*बेशक जन्नत में शराब होगी मगर ऐसी नहीं जैसी कि हम दुनिया में देखते हैं कि इधर हलक से नीचे उतरी और उधर आदमी इंसान से जानवर बना नहीं बल्कि वहां की शराब के बारे में खुद मौला फरमाता है*_

*_उन पर दौरा होगा निगाह के सामने बहती शराब के जाम का.सफ़ेद रंग पीने वालों के लिए लज़्ज़त.ना उसमे खुमार है और ना उससे उनका सर फिरे_*

*📕 पारा 23,सूरह सफ्फात,आयत 45–47*

*_वो जाम जिसमे ना बेहूदगी है और ना गुनहगारी_*

*📕 पारा 27,सरह तूर,आयत 23*

*_और उन्हें उनके रब ने सुथरी शराब पिलाई_*

*📕 पारा 29,सूरह दहर,आयत 21*

*ये होगी जन्नत की शराब जिसके पीने से ना तो नशा होगा और ना पेट में दर्द होगा ना इंसान बहकेगा और ना गाली गलौच की नौबत आयेगी बल्कि इसके पीने से मुश्क की तरह खुश्बूदार पसीना निकलेगा,आईये अब दुनिया की शराब पर वापस लौटते हैं*

*_शराब का आदी बुत परस्त की तरह है_*

*📕 मुसनद अहमद,जिल्द 1,सफह 272*

*_तीन आदमी जन्नत में नहीं जायेंगे 1.मां-बाप का नाफरमान 2.आदी शराबी 3.दय्यूस यानि वो मर्द जिसकी बीवी बेपर्दा घूमती हो और ये मना ना करता हो_*

*📕 मजमउज़ ज़वायेद,जिल्द 4,सफह 327*
*📕 निसाई,जिल्द 2,सफह 331*

*_जो शराब पीता है मौला उसका कोई अमल कुबूल नहीं करता ना नमाज़ और ना कोई दुआ_*

*📕 कंज़ुल उम्माल,जिल्द 5,सफह 365*

*_चोर जब चोरी करता है तो वो मोमिन नहीं रहता ज़ानी जब ज़िना करता है तो वो मोमिन नहीं रहता शराबी जब शराब पीता है तो वो मोमिन नहीं रहता_*

*📕 बुखारी,जिल्द 2,सफह 1001*

*यानि अगर ये काम जायज़ समझकर किया तो ईमान से महरूम हो जाता है*

*_हुज़ूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते हैं कि मेरे रब ने अपनी इज़्ज़त की कसम खाई है कि जो कोई दुनिया में जितने घूंट शराब का पीयेगा तो मैं उसे उतना ही जहन्नम का खौलता पानी पिलाऊंगा_*

*📕 तिब्रानी,जिल्द 8,सफह 232*

*_अगर ये पानी ‘हमीम’ होगा तो इसके बारे में आता है जैसे ही ये मुंह के करीब आयेगा इंसान के चेहरे की खाल गल कर इसमें गिर जायेगी और जब वो इसे पियेगा तो वो पानी आंत को काटता हुआ पीछे के मक़ाम से निकल जायेगा और अगर ये पानी ‘गस्साक’ होगा तो इसके बारे में आता है कि अगर इसका एक डोल दुनिया में डाल दिया जाए तो पूरी दुनिया वाले सड़ जायें,बहरहाल जहन्नम और जहन्नम की तमाम चीज़ें बेहद तकलीफ देह है मौला अपने हबीब के सदक़े में तमाम मुसलमानो को एक आन के लिए भी जहन्नम में दाखिल ना करे-आमीन_*

*_शराब पीने वाले पिलाने बनाने वाले बेचने वाले ले जाने वाले उसकी कीमत खाने वाले सब पर अल्लाह की लानत है_*

*📕 अलमुस्तदरक,जिल्द 4,सफह 145*

*_शराबी को सलाम ना करो और जब वो बीमार हो जाए तो उसकी इयादत ना करो_*

*📕 बुखारी,जिल्द 2,सफह 925*

*_हुज़ूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते हैं कि बेशक अल्लाह ने उस चीज़ मे शिफा नहीं रखी है जो मेरी उम्मत पर हराम की गई हो_*

*📕 तफसीरे क़ुरतबी,जिल्द 2,सफह 231*

*_शराब से बचो कि ये तमाम बुराइयों की जड़ है_*

*📕 कशफुल खिफा,जिल्द 1,सफह 459*

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s