Hadith मोहब्बत_ए_रसूल_सल्लल्लाहु_अलैहि_वसल्लम

मोहब्बत_ए_रसूल_सल्लल्लाहु_अलैहि_वसल्लम:

◆1) जिस ने मुझ से मोहब्बत की उस ने अल्लाह से मोहब्बत की….
[हाकिम – सहीहैन: 4776]

◆2) जिस ने मुझ से मोहब्बत की वह जन्नत मे मेरे साथ होगा…
[तिर्मिज़ी: 2621]

◆3) अल्लाह की मोहब्बत की ख़ातीर मुझ से मोहब्बत करो…
[तिर्मिज़ी: 3722]

◆4) तुम मे से कोई भी उस वक़्त तक मोमीन नही हो सकता, जब तक मैं उस के नज़दीक उस की अपनी जान से भी ज़्यादा महबुब न हो जाऊं…
[अहमद: 18047]

◆5) तुम मे से कोई भी उस वक़्त तक मोमीन नही हो सकता, जब तक मैं उस के नज़दीक उस के वालदैन, उस की औलाद और तमाम लोगों से ज़्यादा महबुब न हो जाओ…
[बुखारी: 15]

◆6) कोई बन्दा उस वक़्त तक मोमीन नही होता,जब तक उस को मेरी मोहब्बत उस के घर वालों, माल व दौलत और सब लोगों से ज़्यादा न हो….
[मुस्लिम: 168]

◆7) आदमी [क़यामत के दिन] उसी के साथ होगा, जिस से उस ने [दुनिया मे] मोहब्बत की होगी…
[मुस्लिम: 6710]

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s