Hadeeth एहलेबैत से मुहब्बत करने की हिदायत

हजरत ईमाम हसन बिन अली (अ.स.) बयान करते हैं कि हुजूर सल्लाहो अलैहे वाआलिही-वसल्लम ने फरमाया”हम एहलेबैत की मुहब्बत को लाज़िम पकड़ो, बस बेशक वह शख्स
जो इस हाल में अल्लाह से मिला कि वह हमें मुहब्बत करता था.
तो वह हमारी शफाअत के सदके में जन्नत में दाखिल होगा
और उस ज़ात की कसम जिसके कब्जा-ए-कुदरत में मेरी
जान है किसी शख्स को उसका अमल फाएदा नहीं देगा
मगर हमारे हक की मारेफत के सबब
(तबरानी-फी-मजनउ-ल-औसत. 02/380, रकम-2230)
नोट- इस हदीस-ए-पाक में एहलेबैत से मुहब्बत करने की हिदायत दी जा रही है, और
इससे यह भी पता चलता है कि आमाल किसी के भी हो उसको काम न आएँगे
(मसालन – नमाज़, रोज़ा, हज, जकात, सदाकात) बगैर मुहब्बते रसूल-ओ-आले
रसूल सल्लाहो अलैहे-वा-आलिही-वसल्लम के।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s