Hadeeth *सदक़ये फित्र

*सदक़ये फित्र*

*हदीस* – रसूल अल्लाह ﷺ इरशाद फरमाते हैं कि बन्दे का रोज़ा आसमानो ज़मीन के बीच रुका रहता है जब तक कि सदक़ये फित्र अदा ना कर दे

📕 बहारे शरीअत,हिस्सा 5,सफह 66

*हदीस* – रसूल अल्लाह ﷺ इरशाद फरमाते हैं कि सदक़ये फित्र इस लिए मुक़र्रर किया गया ताकि तमाम बुरी और बेहूदा बातों से रोज़ों की तहारत हो जाये

📕 अनवारुल हदीस,सफह 257

*फुक़्हा* – सदक़ये फित्र देने वाले को उसके हर दाने के बदले जन्नत में 70000 महल मिलेंगे

📕 क्या आप जानते हैं,सफह 384

*फुक़्हा* – तालिबे इल्म पर 1 दरहम खर्च करना गोया उहद पहाड़ के बराबर सोना खर्च करना है

📕 क्या आप जानते हैं,सफह 385

*फुक़्हा* – सदक़ये फित्र में गेहूं की शुरुआत हज़रत अमीर मुआविया रज़ियल्लाहु तआला अन्हु के दौर से हुई इससे पहले सदक़ये फित्र में खजूर मुनक्का और जौ ही दिया जाता था

📕 क्या आप जानते हैं,सफह 393

*फुक़्हा* – उम्मते मुहम्मदिया में जब कोई शख्स सदक़ा करता है तो जहन्नम रब से अर्ज़ करती है कि मौला मुझे सज्दये शुक्र की इजाज़त दे कि इस उम्मत से एक शख्स तो मुझसे निजात पा गया

📕 क्या आप जानते हैं,सफह 394

*मसअला* – सदक़ये फित्र मालिके निसाब मर्द औरत बालिग नाबालिग आकिल पागल हर मुसलमान पर वाजिब है,2 किलो 47 ग्राम गेहूं की कीमत जो फिलहाल 55 रू बन रही है

📕 अनवारुल हदीस,सफह 257

*HADEES* – Huzoor sallallaho taala alaihi wasallam irshad farmate hain ki bande ka roza zameeno aasman ke beech ruka rahta hai jab tak ki sadqaye fitr ada na karde

📕 Bahare shariyat,hissa 5,safah 66

*HADEES* – Huzoor sallallaho taala alaihi wasallam irshad farmate hain ki sadqaye fitr is liye muqarrar kiya gaya hai taaki tamam buri aur behuda baaton se rozo ki taharat ho jaaye

📕 Anwarul hadees,safah 257

*FUQHA* – Sadqaye fitr dene waale ko uske har daane ke badle jannat me 70000 mahal milenge in sha ALLAH taala

📕 Kya aap jaante hain,safah 384

*FUQHA* – Taalibe ilm par 1 darham kharch karna goya uhad pahaad ke barabar sona kharch karne jaisa hai

📕 Kya aap jaante hain,safah 385

*FUQHA* – Sadqaye fitr me gehun ki shuruwat hazrate ameer muaviya raziyallahu taala anhu ke daur se huyi isse pahle sadqaye fitr me khajoor munakka aur jau hi diya jaata tha

📕 Kya aap jaante hain,safah 393

*FUQHA* – Ummate muhammadiya me jab koi shakhs sadqa karta hai to jahannam arz karti hai ki ai maula mujhe sajdaye shukr ki ijazat de ki is ummat se ek shakhs mujhse nijaat pa gaya

📕 Kya aap jaante hain,safah 394

*MASLA* – Sadqaye fitr maalike nisaab mard wa aurat baalig nabaalig aakil paagal har musalman par waajib hai 2 kg 47 gram gehun ki keemat jo filhaal 45 rs ban rahi hai

📕 Anwarul hadees,safah 257

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s