सहीह मुस्लिम हदीस न:6447

आक़ा रसूलुल्लाह ﷺ ने फ़रमाया, तुम्हारे परवरदिगार के नज़दीक बदतरीन शख़्स वो है जो हर वक़्त फ़ितना व फ़साद का मौक़ा ढुंढता रहे, सिर्फ़ इसलिए ताकि वो लोगों के नज़दीक अपनी बढ़ाई और तकब्बुर को ज़ाहिर कर सके।

सहीह मुस्लिम हदीस न:6447

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s