तमाम ऐतराज के जवाबात क़ुर्आन शरीफ से

_*📕 क़ुर्आन शरीफ से* *हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम की शान क़ुर्आन में 👇🏻*

1 मीलाद शरीफ़ मनाना सुन्नते ख़ुदावन्दी है_*

_*📕पारा 10-11, सूरह तौबा, आयत 33, 128*_
_*📕पारा 6, सूरह मायदा, आयत 15*_
_*📕पारा 3-4, सूरह आले इमरान, आयत 81, 82, 103, 164*_
_*📕पारा 28, सूरह जुमा, आयत 2*_
_*📕पारा 28, सूरह सफ़, आयत 6*_
_*📕पारा 30, सूरह वद्दोहा, आयत 11*_
_*📕पारा 13, सूरह इब्राहीम, आयत 5*_

2 तमाम अंबिया इकराम अपनी क़ब्रों में ज़िन्दा हैं_*

_*📕पारा 2, सूरह बकरा, आयत 154*_
_*📕पारा 4, सूरह आले इमरान, आयत 169*_
_*📕पारा 22, सूरह सबा, आयत 14*_

3 ख़ुदा की बारगाह में अंबिया व औलिया का वसीला लगाना जायज़ है_*

_*📕पारा 6, सूरह मायदा, आयत 35*_
_*📕पारा 5, सूरह निसा, आयत 64*_
_*📕पारा 1, सूरह बकरा, आयत 37*_

4 हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम नूर हैं बेशक आप बशर भी हैं मगर हम जैसे नही_*

_*📕पारा 6, सूरह मायदा, आयत 15*_
_*📕पारा 22, सूरह अहज़ाब, आयत 45, 46*_
_*📕पारा 10, सूरह तौबा, आयत 32*_
_*📕पारा 28, सूरह सफ़, आयत 8*_

5 अंबिया इकराम को बशर यानि अपनी तरह कहना कुफ्र है_*

_*📕पारा 14, सूरह हजर, आयत 33*_
_*📕पारा 18, सूरह मोमेनून, आयत 33, 47*_
_*📕पारा 28, सूरह तग़ाबुन, आयत 6*_
_*📕पारा 8, सूरह एराफ़, आयत 12*_
_*📕पारा 19, सूरह शोअरा, आयत 154*_

6 अल्लाह के नेक बन्दे दूर से देखते सुनते व मदद भी करते हैं_*

_*📕पारा 19, सूरह नमल, आयत 18*_
_*📕पारा 10, सूरह इन्फाल, आयत 64*_
_*📕पारा 28, सूरह तहरीम, आयत 4*_
_*📕पारा 5, सूरह निसा, आयत 64*_

7 हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम खातेमुन नबीय्यीन हैं यानि आप के बाद कोई नबी नहीं आ सकता_*

_*📕पारा 22, सूरह अहज़ाब, आयत 40*_

8 हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम हाज़िर व नाज़िर हैं_*

_*📕पारा 26, सूरह फतह, आयत 8*_
_*📕पारा 2, सूरह बकरा, आयत 143*_
_*📕पारा 5, सूरह निसा, आयत 41*_
_*📕पारा 9, सूरह इन्फाल, आयत 33*_
_*📕पारा 29, सूरह मुज़म्मिल, आयत 15*_
_*📕पारा 17, सूरह अंबिया, आयत 107*_

9 ताज़ीमे मुस्तफा सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम ईमान की जान है_*

_*📕पारा 5, सूरह निसा, आयत 65*_
_*📕पारा 9, सूरह इन्फाल, आयत 24*_
_*📕पारा 9, सूरह एराफ़, आयत 157*_
_*📕पारा 18, सूरह नूर, आयत 63*_
_*📕पारा 26, सूरह हुजरात, आयत 2*_
_*📕पारा 22, सूरह अहज़ाब, आयत 53*_
_*📕पारा 26, सूरह फतह, आयत 8,9*_

10 ख़ुदा ने ख़ुद हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम व तमाम अंबिया इकराम पर दुरूदो सलाम पढ़ा है और हमें पढ़ने का हुक्म भी दिया_*

_*📕पारा 22, सूरह अहज़ाब, आयत 56*_
_*📕पारा 16, सूरह मरियम, आयत 15, 33*_
_*📕पारा 23, सूरह साफ्फात, आयत 79, 109, 120, 130, 181*_

11 हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम से गुस्ताखी कुफ्र है_*

_*📕पारा 1, सूरह बकरा, आयत 104*_
_*📕पारा 10, सूरह तौबा, आयत 61, 65, 66*_
_*📕पारा 23, सूरह स्वाद, आयत 75, 76*_
_*📕पारा 26, सूरह हुजरात, आयत 2*_
_*📕पारा 22, सूरह अहज़ाब, आयत 57*_

12 हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम मालिको मुख्तार हैं जिसे जो चाहें अता कर दें_*

_*📕पारा 30, सूरह वद्दोहा, आयत 5,8*_
_*📕पारा 30, सूरह कौसर, आयत 1*_
_*📕पारा 5, सूरह निसा, आयत 113*_
_*📕पारा 10, सूरह तौबा, आयत 29, 59, 74, 103*_
_*📕पारा 2, सूरह बकरा, आयत 144*_
_*📕पारा 9, सूरह एराफ़, आयत 157*_
_*📕पारा 22, सूरह अहज़ाब, आयत 36*_
_*📕पारा 23, सूरह ज़मर, आयत 53*_
_*📕पारा 9, सूरह इन्फाल, आयत 24*_
_*📕पारा 27, सूरह कमर, आयत 1,2*_

13 अंबिया इकराम मासूम हैं उनसे गुनाह हो ही नहीं सकता_*

_*📕पारा 15, सूरह बनी इसराईल, आयत 65, 74*_
_*📕पारा 27, सूरह वन्नज्म, आयत 2*_
_*📕पारा 13, सूरह यूसुफ, आयत 53*_
_*📕पारा 21, सूरह अहज़ाब, आयत 21*_
_*📕पारा 23, सूरह स्वाद, आयत 82, 83*_
_*पारा 8, सूरह एराफ़, आयत 61*_
_*📕पारा 8, सूरह इनआम, आयत 124*_
_*📕पारा 1, सूरह बकरा, आयत 124*_

14 हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम ने ख़ुदा को बेदारी में सर की आखों से देखा_*

_*📕पारा 27, सूरह वन्नज्म, आयत 1-17*_

15 ख़ुदा ने अंबिया इकराम खुसूसन हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम को ग़ैब का इल्म अता किया_*

_*📕पारा 1, सूरह बकरा, आयत 31*_
_*📕पारा 15, सूरह कहफ, आयत 65*_
_*📕पारा 26, सूरह ज़ारियात, आयत 28*_
_*📕पारा 13, सूरह यूसुफ, आयत 68*_
_*📕पारा 5, सूरह निसा, आयत 113*_
_*📕पारा 3-4, सूरह आले इमरान, आयत 49, 179*_
_*📕पारा 29, सूरह जिन्न, आयत 26, 27*_
_*📕पारा 27, सूरह वन्नज्म, आयत 10*_
_*📕पारा 30, सूरह तक़वीर, आयत 24*_
_*📕पारा 13, सूरह यूसुफ, आयत 102*_
_*📕पारा 27, सूरह रहमान, आयत 1-4*_
_*📕पारा 28, सूरह मुजादेलह, आयत 22*_
_*📕पारा 20, सूरह अन्कबूत, आयत 1,2*_
_*📕पारा 10, सूरह तौबा, आयत 23*_
_*📕पारा 28, सूरह मुम्तहिना, आयत 1,2*_
_*📕पारा 6, सूरह मायदा, आयत 51*_
_*📕पारा 9, सूरह एराफ़, आयत 179*_
_*📕पारा 25, सूरह जाशिया, आयत 23*_
_*📕पारा 28, सूरह जुमा, आयत 5*_
_*📕पारा 26, सूरह हुजरात, आयत 14*_
_*📕पारा 28, सूरह मुनाफेकून, आयत 1,8*_
_*📕पारा 1, सूरह बकरा, आयत 85, 86*_
_*📕पारा 18, सूरह नूर, आयत 47*_
_*📕पारा 26, सूरह मुहम्मद, आयत 34*_
_*📕पारा 5, सूरह निसा, आयत 140*_
_*📕पारा 10-11, सूरह तौबा, आयत 54, 84, 107, 108*_

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s