मुर्शिद (आध्‍यात्मिक गुरू) की जरूरत क्‍यों है?

मुर्शिद (आध्‍यात्मिक गुरू) की जरूरत क्‍यों है?

मुरशिद-ए-कामिल (सच्‍चे गुरू) की जरूरत इसी बात से पता चलती है कि कुरआन को कुरआन इसलिए मानते हैं क्‍योंकि उसकी सारी आयतें, बिना किसी शक के अल्‍लाह की बयानकर्दा मानते हैं, हज़रत मुहम्‍मद (सल्‍ल.) की हदीस को इसलिए मानते हैं क्‍योंकि वो मोअतबर सनदों (भरोसेमंद प्रमाणों) के साथ मौजूद है। ठीक इसी तरह किसी रूहानी मुर्शिद (आध्‍यात्मिक गुरू) का क़ल्‍ब (हृदय) वास्‍ते ब वास्‍ते हज़रत मुहम्‍मद (सल्‍ल.) से मिला होता है। सूफ़ीयों का गिरोह ही वो तीसरा गिरोह है जो हज़रत मुहम्‍मद (सल्‍ल.) के सच्‍चे वारिस हैं। इस गिरोह का सिलसिलाए रूहानी भी जंजीर की मजबूत कड़ीयों जैसा है जिसका सरचश्‍म-ए-तक़दीस (शुद्ध स्‍त्रोत) हज़रत मुहम्‍मद (सल्‍ल.) का दिल है।

जिस खुबसूरती से इमाम बुखारी व मुस्लिम ने हज़रत मुहम्‍मद (सल्‍ल.) के कलाम व सहाबियों की बातों को किताबों व तहरीरों में दर्ज किया, उसी खुबसूरती से हसन बसरी (र.अ.) व जुनैद बगदादी (र.अ.) ने अल्‍लाह के पोशीदा बातों, हज़रत मुहम्‍मद (सल्‍ल.) की चमक व सहाबियों के अमल से अपने सीनों (दिलों) को आबाद किया। एक तरफ बातें दर्ज हो रही थी सफीनों में तो एक तरफ मुन्‍तकिल (प्रवाहित) हो रही थी सीनों में। इन दोनों का तअल्‍लुक ज़ाते मुहम्‍मदी से ही है और सहा‍बी इन दोनों के दरमियान कड़ी हैं। सहाबियों में भी कुछ ख़ास के हिस्‍से में ये खुशनसीबी आई, उनमें हज़रत अबुबक्र, उमर फारूक, उसमान गनी, मौला अली, हारिसा, अबुजरगफारी, सलमान फारसी, अबुउबैदा, अबुदरदा, मआज इब्‍नेजबल, अबुहुरैरह, अबुमूसा अश्‍अरी, इमरान बिनहसीन वगैरह के नाम खासतौर पर जो पहले सूफ़ी हजरात हैं। सूफ़ीयों के सारे रूहानी सिलसिले (आध्‍यात्मिक शाख) हज़रत मुहम्‍मद (सल्‍ल.) से शुरू होकर इन्‍हीं नामों से गुजरते है।

Murśida (ādhyātmika gurū) kī jarūrata kyōṁ hai? Muraśida-ē-kāmila (saccē gurū) kī jarūrata isī bāta sē patā calatī hai ki kura’āna kō kura’āna isali’ē mānatē haiṁ kyōṅki usakī sārī āyatēṁ, binā kisī śaka kē allāha kī bayānakardā mānatē haiṁ, hazarata muham’mada (salla.) Kī hadīsa kō isali’ē mānatē Haiṁ kyōṅki vō mō’atabara sanadōṁ (bharōsēmanda pramāṇōṁ) kē sātha maujūda hai. Ṭhīka isī taraha kisī rūhānī murśida (ādhyātmika gurū) kā qalba (hr̥daya) vāstē ba vāstē hazarata muham’mada (salla.) Sē milā hōtā hai. Sūfīyōṁ kā girōha hī vō tīsarā girōha hai jō hazarata muham’mada (salla.) Kē saccē vārisa haiṁ. Isa girōha kā silasilā’ē rūhānī bhī jan̄jīra kī majabūta kaṛīyōṁ jaisā hai jisakā saracaśma-ē-taqadīsa (śud’dha strōta) hazarata muham’mada (salla.) Kā dila hai. Jisa khubasūratī sē imāma bukhārī va muslima nē hazarata muham’mada (salla.) Kē kalāma va sahābiyōṁ kī bātōṁ kō kitābōṁ va taharīrōṁ mēṁ darja kiyā, usī khubasūratī sē hasana basarī (ra.A.) Va junaida bagadādī (ra.A.) Nē allāha Kē pōśīdā bātōṁ, hazarata muham’mada (salla.) Kī camaka va sahābiyōṁ kē amala sē apanē sīnōṁ (dilōṁ) kō ābāda kiyā. Ēka tarapha bātēṁ darja hō rahī thī saphīnōṁ mēṁ tō ēka tarapha muntakila (pravāhita) hō rahī thī sīnōṁ mēṁ. Ina dōnōṁ kā ta’alluka zātē muham’madī sē hī hai aura sahābī ina dōnōṁ kē daramiyāna kaṛī haiṁ. Sahābiyōṁ mēṁ bhī kucha ḵẖāsa kē his’sē mēṁ yē khuśanasībī ā’ī, unamēṁ hazarata abubakra, umara phārūka, usamāna ganī, maulā alī, hārisā, abujaragaphārī, salamāna phārasī, abu’ubaidā, abudaradā, ma’āja ibnējabala, abuhurairaha, abumūsā aśarī, imarāna binahasīna vagairaha kē nāma khāsataura Para jō pahalē sūfī hajarāta haiṁ. Sūfīyōṁ kē sārē rūhānī silasilē (ādhyātmika śākha) hazarata muham’mada (salla.) Sē śurū hōkara inhīṁ nāmōṁ sē gujaratē hai.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s