मुरीद कौन है?

हजरत मुहम्‍मद सल्‍ल. को जो देखकर ईमान लाया उसे सहाबी कहते हैं। सहाबी के मायने होते हैं सरफे सहाबियत यानि सोहबत हासिल करना। हुजूर की सोहबत जो उठाए वो सहाबी।
आलातरीन निसबत के एतबार से सहाबी अपने आप में अकेला है जिसने हजरत मुहम्‍मद सल्‍ल. की सोहबत उठाई। तसव्‍वुफ में सूफीया ने इसी इरादत को मुरीदी नाम दिया है। मुरीदी का मफहूम (सार) भी यही है कि जिस मुर्शिद कामिल से लगाव हो जाए और दिल उसकी तरफ माएल हो जाए तो उसकी खिदमत में सच्‍चे दिल से नियाजमंदी के साथ फरमाबरदार हो जाए। इसी से आखिरत भी संवर जाएगी और ये हुक्‍मे खुदा भी है
يَـٰٓأَيُّهَا ٱلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ ٱتَّقُوا۟ ٱللَّهَ وَكُونُوا۟ مَعَ ٱلصَّـٰدِقِينَ [٩:١١٩]
ऐ ईमानवालों ख़ुदा से डरो और सच्चों के साथ हो जाओ।
(कुरआन-9.सूरे तौबा-119)
इस आयात में तीन बातें कही गयी हैं एक ईमानबिल्‍लाह, दुसरा तकवा-अल्‍लाह और तीसरा सोहबत-औलियाअल्‍लाह।
तकवा की जामे तारीफ में सूफीयों ने कहा कि- खुदा तुझे उस जगह न देखे जहां जाने से तूझे रोका है और उस जगह से कभी गैर हाजिर न पाए जहां जाने का हुक्‍म दिया है।
यहां सबसे ज्‍यादा गौर करने वाली बात ये है कि अल्‍लाह ईमानवालों से बात कर रहा है। ये नहीं फरमा रहा कि सच्‍चों के साथ जो जाओ और ईमान लाओ, बल्कि ये फरमा रहा है कि ईमानवालों के लिए भी अल्‍लाह से डरना और सूफीयों की सोहबत जरूरी है।
हाजी इमदादुल्‍लाह महाजर मक्‍की र.अ. फरमाते हैं  कि हजरत मुहम्‍मद सल्‍ल. फरमाते हैं
اَلشَّیْخُ فِیْ قَوْمِہٖ کَالنَّبِیْ فِیْ اُمَّتِہٖ
शैख अपने हल्‍कए मुरीदैन में इस तरह होता है
जिस तरह नबी अपनी उम्‍मत में।
(तसफिया-तुल-कुलूब:4)
हजरत मक्‍की फरमाते हैं कि बुजूरगाने दीन ने फरमाया – जो अल्‍लाह के साथ बैठना चाहे उसे चाहिए अहले तसव्‍वुफ की मजलिस व सोहबत अ‍खतियार करे। जिस तरह वहां नबी की सोहबत जरूरी है यहां भी इस के लिए शेख का होना जरूरी है। अगर शैखे कामिल की नजर में हो और हर अमल फरमान के मुताबिक करे हो क और अपने तमाम इख्तियार व इरादों को अपने शेख के दस्‍ते इख्तियार में देखे तो बहुत जल्‍द मंजिले मकसूद तक पहुंच जाए और मकबूल हो जाए। (मलखसन कुवतुल कुलूब)

Prophet. ko jo dekhkr imaan laayaa use ”shaabi” khte hain. shaabi ke maayne hote hain ”srfe shaabiyt” yaani sohbt haasil krnaa. hujur ki sohbt jo uthaae vo shaabi.
aalaatrin nisbt ke etbaar se shaabi apne aap men akelaa hai jisne hjrt muhmmtd sllr. ki sohbt uthaai. tsvvu f men sufiyaa ne isi iraadt ko ”muridi” naam diyaa hai. muridi kaa mfhum (saar) bhi yhi hai ki jis murshid kaamil se lgaaav ho jaae aur dil uski trf maael ho jaae to uski khidmt men skkei dil se niyaajmndi ke saath frmaabrdaar ho jaae. isi se aakhirt bhi snvr jaaegai aur ye hukmey khudaa bhi hai-

يَـٰٓأَيُّهَا ٱلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ ٱتَّقُوا۟ ٱللَّهَ وَكُونُوا۟ مَعَ ٱلصَّـٰدِقِينَ [٩:١١٩]

ai imaanvaalon kheudaa se dro aur skkon ke saath ho jaaois aayaat men tin baaten khi gayi hain ek imaan-billaah, dusraa tkvaa-allaarh aur tisraa sohbt-auliyaaallaanh.
tkvaa ki jaame taarif men sufiyon ne khaa ki- ”khudaa tujhe us jgah n dekhe jhaan jaane se tujhe rokaa hai aur us jgah se kbhi gaair haajir n paae jhaan jaane kaa hukm  diyaa hai.”
yhaan sbse jyaa daa gaaur krne vaali baat ye hai ki allaauh imaanvaalon se baat kr rhaa hai. ye nhin frmaa rhaa ki skkon  ke saath jo jaao aur imaan laa lo, blki ye frmaa rhaa hai ki imaanvaalon ke lie bhi allaagah se drnaa aur sufiyon ki sohbt jruri hai.
haaji imdaadullaaaah mhaajr mkkiaa r.a. frmaate hain  ki hjrt muhmm d sll . frmaate hain –

اَلشَّیْخُ فِیْ قَوْمِہٖ کَالنَّبِیْ فِیْ اُمَّتِہٖ

shaikh apne hlk‍e muridain men is trh hotaa hai jis trh nbi apni ummmt men. (tsfiyaa-tul-kulub:4)
hjrt mkkiu frmaate hain ki bujurgaaane din ne frmaayaa – ”jo allaath ke saath baithnaa kaahe use kaahie ahle tsvvurf ki mjlis v sohbt a‍khtiyaar kre. jis trh vhaan nbi ki sohbt jruri hai yhaan bhi is ke lie shekh kaa honaa jruri hai. agar shaikhe kaamil ki njr men ho aur hr aml frmaan ke mutaabik kre ho k aur apne tmaam ikhtiyaar v iraadon ko apne shekh ke dsteh ikhtiyaar men dekhe to bhut jlda mnjile mksud tk phunk jaae aur mkbul ho jaae. (mlkhsn kuvtul kulub)

कुरआन में अल्‍लाह फरमाता है-
يَـٰٓأَيُّهَا ٱلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ ٱتَّقُوا۟ ٱللَّهَ وَٱبْتَغُوٓا۟ إِلَيْهِ ٱلْوَسِيلَةَ وَجَـٰهِدُوا۟ فِى سَبِيلِهِۦ لَعَلَّكُمْ تُفْلِحُونَ [٥:٣٥]
ऐ ईमानवालोंतुम अल्‍लाह से डरते रहो और उस तक पहुंचने का वसीला तलाश करो और उसकी राह में जिहाद करो ताकि तुम कामयाब हो जाओ
(कुरआन-5.सूरे माएदा-35)
इस आयत में पूरा तसव्‍वूफ ही सिमट आया है, यहां फलहो कामयाबी (मोक्ष) के लिए चार बातें कही गयीं हैं
1)   ईमान –
जुबान से इकरार करना और दिल से तस्‍दीक़ करना कि अल्‍लाह एक है और हजरत मुहम्‍मद सल्‍लअल्‍लाह के रसूल हैं।
2)   तक़वा –
अल्‍लाह ने जिस काम का हुक्‍म दिया उसे करना और जिस से मना किया है उस से परहेज़ करना।
3)   वसीला –
अल्‍लाह के नेक बंदों से सोहबत (संपर्क) अख्तियार करना।
4)   जिहाद 
अपने नफ्स (इन्द्रियों) और अना (मैं) को अल्‍लाह की राह में मिटा देना।
शाह वलीउल्‍लाह मोहद्दि‍स र.अ. फरमाते हैं
ज़ाहिरी तौर पर बिना मां-बाप के बच्‍चा नहीं हो सकता, ठीक उसी तरह बातिनी (अध्‍यात्‍म) में बिना पीर (गुरू) के अल्‍लाह की राह मुश्किल है।
जिसका कोई पीर नहीं उसका पीर, शैतान है।
हर मुरीद ये यकीन रखे कि बेशक तुम्‍हारा पीरे कामिल ही वो है जो अल्‍लाह से मिलाता है। तुम्‍हारा तअल्‍लुक अपने ही पीर के साथ पक्‍का हो, किसी दुसरे की तरफ माएल न हो।
शैख अब्‍दुल हक़ मोहद्दिस देहलवी र.अ. फरमाते हैं-
अपने पीर से मदद मांगना, हजरत मुहम्‍मद सल्‍ल. से मदद मांगना है, क्‍योंकि ये उनके नाएब और जानशीन (उत्‍तराधिकारी) हैं। इस अक़ीदे को पूरे यक़ीन से अपने पल्‍लु बांध लो।

Murid kaun hai? 
Quraan men Allaah farmata hai-

يَـٰٓأَيُّهَا ٱلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ ٱتَّقُوا۟ ٱللَّهَ وَٱبْتَغُوٓا۟ إِلَيْهِ ٱلْوَسِيلَةَ وَجَـٰهِدُوا۟ فِى سَبِيلِهِۦ لَعَلَّكُمْ تُفْلِحُونَ [٥:٣٥]

”ai imanvalon! tum Allaaَh se darte rho aur us tak pahunchne kaa vasilaa talaash karo aur uski raah men jihaad kro taaki tum kaamyaab ho jaao”
(Quraan-5.sure maaedaa-35)

is aayt men puraa tasawwuf hi simat aayaa hai, yahan falaho kamyabi (moksh) ke lie char baaten kahi gayin hain-
1)    Imaan –
jubaan se ikraar karna aur dil se tasdiq karna ki Allah ek hai aur hazrat Muhmmad s.a.w. Allah ke Rasul hain.
2)    Takva –
Allah ne jis kaam kaa hukm diyaa use karna aur jis se manaa kiya hai us se parhez karna.
3)    Vasila –
Allah ke nek bandon se sohbat (sampark) akhtiyaar karna.
4)    Jihaad –
apne nafs (indriyon) aur anaa (main) ko Allah ki raah men mitaa dena.

Shah Wliullah mohddi‍s dehlvi r.a. farmaate hain-
“Zaahiri taur pr binaa maan-baap ke bachcha nhin ho saktaa, thik usi tarah baatini (adhyaatm) men binaa pir (guru) ke Allah ki raah mushkil hai.

“Jiskaa koi pir nahin uskaa pir, shaitaan hai.”

“har murid ye yakin rakhe ki beshak tumhara Peer-e-kaamil hi vo hai jo Allah se milata hai. tumhara talluk apne hi peer ke saath pkaa ho, kisi dusre ki taraf maael n ho.

Shaikh Abdul Haq mohddis dehlvi r.a. frmaate hain-
”apne pir se madad mangana, hazrat Muhammad s.a.w. se madad maangana hai, kyonki ye unke naaeb aur jaanashin (utt‍raadhikari) hain. is aqide ko pure yakin se apne pllu baandh lo.”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s