Rab ka Shukrana रब का शुक्राना

d2178a0d0ed7f416ce6489ac16ad99f1_Rab-ka-Shukrana-1440-c-90

 

खुदा ने कहा…

अगर तुम शुक्र अदा करोगे तो मैं तुम पर नेमअतों की बारिश कर दूंगा…

(कुरान 14:7)

जो शुक्र अदा करता है, वो अपने फ़ायदे के लिए ही शुक्र अदा करता है…

(कुरान 31:12)

पूजनीय, आकाश व पृथ्वी को सत्य के मार्ग से चलाने वाले परमेश्वर से

शुक्र के साथ (विनम्रता पूर्वक) हाथ ऊपर उठाकर प्रार्थना करो।

(ऋगवेद 6:16:46)

पवित्र आत्मा की सहायता पाने के लिए (शुक्रिया के साथ) प्रार्थना करो।

(बाईबिल 1कुरि.1:26.2:16)

 

एक सूफ़ी हर रोज़ सुब्ह शाम रब का शुक्र अदा करते। वो कहते. या रब! तेरे रहमो करम की कोई इंतेहा नहीं। तु मेरी ज़रूरतें हमेशा पूरी करता है। तेरा जितना शुक्र अदा किया जाए कम है।

शेर

तु नवाज़ने पे आए, तो नवाज़ दे ज़माना।

तु करीम ही जो ठहरा, तो करम का क्या ठिकाना।।

ये उनके मुरीदों को अच्छी नहीं लगती। क्योंकि कभी कभी तो ज़रूरतें पूरी हो जाती थी, मगर ज़्यादातर नहीं होती थी। लेकिन सूफ़ी साहब हैं कि हमेशा यही दुआ व शेर पढ़ते और शुक्र अदा करते रहते।

एक बार सूफ़ी साहब अपने मुरीदों के साथ सफ़र के लिए रवाना हुए। रास्ते में एक गांव पड़ा। वहां कुछ दिनों पहले ही कोई ढोंगी बाबा, गांववालों को धोका देकर और लूट कर भागा था।

जब सूफ़ी जी वहां पहुंचे तो गांव वालों ने उन्हें गांव में घुसने ही नहीं दिया और बुरा भला कह कर भगा दिया।

इसी तरह आसपास के गांववालों ने भी ऐसा ही किया। अब कई दिन हो गए, गर्म रेत का सफ़र, न खाना मिला न पानी। सबकी हालत खराब। लेकिन सूफ़ी साहब का मामूल जारी रहा। वो उसी तरह रब का शुक्र अदा करते रहते और शेर पढ़ते रहते।

इस पर मुरीदों को बर्दाश्त नहीं हुआ, उनसे पूछने लगे. आप किस रहमो करम की बात कर रहे हैं। भूख से हमारा बुरा हाल है। खाना पीना तो दूर, गांव वालों को तो हमारा आना ही बर्दाश्त नहीं।

उस रब का हम पर इतना जुल्म। और आपकी जुबान पर हमेशा वही शुक्राना?

सूफ़ी साहब जब शुक्र अदा करते तो उनके आंखों से आंसु बहते।

लेकिन मुरीद की ये बात सुनकर वो मुस्कराए और बोले. तुम नादान हो बेटा। तुम्हें समझ नहीं। इतने दिन हमारी ये हालत, हमारी ज़ात के लिए ज़रूरी है।

हमारा प्यासा रहना, भूखा रहना, दरबदर रहना, सब उसकी इनायतें हैं। क्योंकि वो कभी हमारा बुरा नहीं करता। हां, आज़माता ज़रूर है और सिर्फ़ उसका इम्तेहान लेता है, जो उसे पसंद होता है।

वो शुक्र ही क्या जो बग़ैर आज़माईश के हो। वो कैसा शुक्र है कि इम्तेहान के वक़्त न रहे।

अगर वो तक़लीफ़ दे रहा है तो यक़ीनन उस तक़लीफ़ में भी हमारी कोई भलाई छिपी हुई होगी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: