मैं रब से बाक़ी मुझ से

muhammad_medina-1030x773

या साहेबल जमाल व या सय्यदिल क़मर

मिउंवजहेकल मुनीरो लक़द नव्वरूल क़मर

लायुमकेनश शनाओ कमा काना हक़्क़हू

बाद अज़ ख़ुदा बुजूर्ग तुई कि़स्सा मुख़्तसर

ऐ साहेबे जमाल! और आदमियों के सरदार!

आप ही के रूए मुबारक के अनवार से चांद रौशन है।

आपकी सारी तारीफ़ें बयान करना नामुमकिन है।

बस कि़स्सा मुख़्तसर ये है कि खुदा के बाद

आपका मरतबा सबसे बुलंद व आला है।

 

हदीस शरीफ़ है.

‘‘मैं अल्लाह के नूर से और मोमीन मेरे नूर से।’’

और दूसरी रवायत है कि

‘‘मैं अल्लाह से हूं और मोमीन मुझसे है।’’

सबसे पहले खुदा ने हुज़ूरﷺ  का नूर पैदा किया और फिर उससे तमाम मख़्लूक को पैदा फ़रमाया। सब हुज़ूरﷺ  से ही पैदा हुआ, लेकिन सबको हुज़ूरﷺ  ने अपना नहीं कहा।

कहा तो सिर्फ उन लोगों के बारे में जो हुज़ूरﷺ  से जुड़ गए,

उनकी फ़रमाबरदारी किए, उनके नक्शेकदम पर चले। ऐसे लोगों के बारे में हुज़ूरﷺ  फ़रमा रहे हैं कि वो मुझसे हैं। और फिर जिनसे हुज़ूरﷺ  राज़ी हो गए, उनसे रब राज़ी हो गया।

हदीस कुदसी है.

जिसने मुझे देखा, तहक़ीक़ उसने खुदा को देखा।

हुज़ूरﷺ  नूरूल्लाह हैं।

खुदा से उनकी निसबत इस तरह ज़ाहिर होती है।

ऐ महबूब! तुमने मिट्टी नहीं फेंकी, बल्कि अल्लाह ने फेंकी। (कुरान 8:17)

यानी हुज़ूरﷺ  का फेंकना भी अल्लाह का फेंकना है।

हुज़ूरﷺ  का जल्वानुमा होना कितनी अहमियत रखता है,

इस बात से ज़ाहिर होती है। हदीस कुदसी में है.

‘‘(ऐ मुहम्मदﷺ ) अगर आपको पैदा नहीं करता तो अपनी खुदाई भी ज़ाहिर नहीं करता।’’

यानी आपकी वजह से ही सबकुछ पैदा हुआ और आपकी खातिर ही दोजहां को पैदा किया गया।

इसके अलावा.

(ऐ महबूब) बेशक जो लोग आपसे बैअत करते हैं, वो अल्लाह ही से बैअत करते हैं।

उनके हाथ पर (आपके हाथ की सूरत में) अल्लाह ही का हाथ है। (कुरान 48:10)

यानी हुज़ूरﷺ  का हाथ अल्लाह का हाथ है।

 

ग़ालिब सनाए ख़्वाजाए

ब यज़दां गुज़ाश्तेम

कान ज़ाते पाक

मरतबए दाने मुहम्मदﷺ  अस्त

ऐ ग़ालिब, हम ख़्वाजाए आलम (हज़रत मुहम्मदﷺ ) की तारीफ़ व तौसीफ़, अल्लाह की ज़ाते अक़दस पर छोड़ते हैं। क्योंकि सिर्फ़ खुदा ही हुज़ूरﷺ  के मुक़ाम व मरतबे को जानता है।

Prophet_Muhammad__s_name_3_by_Callligrapher_0

 

 

ya saahebal jamaal va ya sayyadil qamar
miunvajahekal muneero laqad navvarool qamar
laayumakenash shanao kama kaana haqqahoo
baad az khuda bujoorg tuee kissa mukhtasar

ai saahebe jamaal! aur aadamiyon ke saradaar! aap hee ke rooe mubaarak ke anavaar se chaand raushan hai. aapakee saaree taareefen bayaan karana naamumakin hai. bas kissa mukhtasar ye hai ki khuda ke baad aapaka marataba sabase buland va aala hai.

hadees shareef hai.
‘‘main allaah ke noor se aur momeen mere noor se.’’
aur doosaree ravaayat hai ki
‘‘main allaah se hoon aur momeen mujhase hai.’’

sabase pahale khuda ne huzoorashly allh ʿlyh wslm ka noor paida kiya aur phir usase tamaam makhlook ko paida faramaaya. sab huzoorashly allh ʿlyh wslm se hee paida hua, lekin sabako huzoorashly allh ʿlyh wslm ne apana nahin kaha.
kaha to sirph un logon ke baare mein jo huzoorashly allh ʿlyh wslm se jud gae, unakee faramaabaradaaree kie, unake nakshekadam par chale. aise logon ke baare mein huzoorashly allh ʿlyh wslm farama rahe hain ki vo mujhase hain. aur phir jinase huzoorashly allh ʿlyh wslm raazee ho gae, unase rab raazee ho gaya.

hadees kudasee hai.
jisane mujhe dekha, tahaqeeq usane khuda ko dekha.
huzoorashly allh ʿlyh wslm nooroollaah hain.
khuda se unakee nisabat is tarah zaahir hotee hai.
ai mahaboob! tumane mittee nahin phenkee, balki allaah ne phenkee. (kuraan 8:17)

yaanee huzoorashly allh ʿlyh wslm ka phenkana bhee allaah ka phenkana hai.
huzoorashly allh ʿlyh wslm ka jalvaanuma hona kitanee ahamiyat rakhata hai, is baat se zaahir hotee hai. hadees kudasee mein hai.
‘‘(ai muhammadashly allh ʿlyh wslm ) agar aapako paida nahin karata to apanee khudaee bhee zaahir nahin karata.’’

yaanee aapakee vajah se hee sabakuchh paida hua aur aapakee khaatir hee dojahaan ko paida kiya gaya.
isake alaava.
(ai mahaboob) beshak jo log aapase baiat karate hain, vo allaah hee se baiat karate hain.
unake haath par (aapake haath kee soorat mein) allaah hee ka haath hai. (kuraan 48:10)
yaanee huzoorashly allh ʿlyh wslm ka haath allaah ka haath hai.

gaalib sanae khvaajae
ba yazadaan guzaashtem
kaan zaate paak
maratabe daane muhammadashly allh ʿlyh wslm ast

ai gaalib, ham khvaajae aalam (hazarat muhammadashly allh ʿlyh wslm ) kee taareef va tauseef, allaah kee zaate aqadas par chhodate hain. kyonki sirf khuda hee huzoorashly allh ʿlyh wslm ke muqaam va maratabe ko jaanata hai.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: