शहीदे आज़म

*शहीदे आज़म*

*अल्लाहुम्मा सल्ले वसल्लिम वबारिक अलैहि व अलैहिम व अलल मौलस सय्यदिल इमामे हुसैन रज़ियल्लाहु तआला अन्हु*

नाम —– सय्यदना इमाम *हुसैन* रज़ियल्लाहु तआला अन्हु

लक़ब —- सिब्ते रसूल,रैहानतुर रसूल,सय्यदुश शुहदा

वालिद — मौला अली रज़ियल्लाहु तआला अन्हु

वालिदा — खातूने जन्नत हज़रत फातिमा रज़ियल्लाहु तआला अन्हा

विलादत – 5 शाबान,4 हिजरी

बीवियां – 4,शहर बानो-रुबाब बिन्त इमरा अलक़ैस-लाईला बिन्त अबी मुर्राह अल थक़ाफी,उम्मे इस्हाक़ बिन्त तल्हा बिन उबैदुल्लाह

औलाद — 6,हज़रत ज़ैनुल आबेदीन व हज़रते सकीना शहर बानो से,हज़रत अली अकबर व फातिमा सुग़रा लाईला से,हज़रत अली असगर व सुकैना रुबाब से

विसाल — 10 मुहर्रम,61 हिजरी,जुमा

उम्र — 56 साल 5 महीने 5 दिन

आपके फज़ाइल में बेशुमार हदीसें वारिद हैं हुसूले बरकत के लिए चंद यहां ज़िक्र करता हूं

*हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते हैं कि हुसैन मुझसे है और मैं हुसैन से हूं और फरमाते हैं कि जिसने हुसैन से मोहब्बत की उसने अल्लाह से मोहब्बत की*

📕 मिशकातत,सफह 571

*हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते हैं कि जो चाहता है कि जन्नती जवानों के सरदार को देखे तो वो हुसैन को देख ले*

📕 नूरुल अबसार,सफह 114

*हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम ने एक मर्तबा इमाम हुसैन रज़ियल्लाहु तआला अन्हु को देखकर फरमाया कि आज यह आसमान वालों के नज़दीक तमाम ज़मीन वालों से अफज़ल है*

📕 अश्शर्फुल मोअब्बद,सफह 65

*हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम ने इमाम हुसैन रज़ियल्लाहु तआला अन्हु पर अपने बेटे हज़रत इब्राहीम रज़ियल्लाहु तआला अन्हु को क़ुर्बान कर दिया*

📕 शवाहिदुन नुबुवत,सफह 305

*हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते हैं कि हसन के लिए मेरी हैबत व सियादत है और हुसैन के लिए मेरी ज़ुर्रत व सखावत है*

📕 अश्शर्फुल मोअब्बद,सफह 72

*इमाम हुसैन रज़ियल्लाहु तआला अन्हु बहुत बड़ी फज़ीलत के मालिक हैं आप कसरत से नमाज़-रोज़ा-हज-सदक़ा व दीग़र उमूरे खैर अदा फरमाते थे,आपने पैदल चलकर 25 हज किये*

📕 बरकाते आले रसूल,सफह 145

*करामात – अबु औन फरमाते हैं कि एक मर्तबा हज़रत इमाम हुसैन रज़ियल्लाहु तआला अन्हु का गुज़र कस्बा इब्ने मुतीअ के पास से हुआ,वहां एक कुंआ था जिसमे पानी बहुत कम रह गया था यहां तक कि डोल भी भरकर ऊपर ना आ पाता था जब लोगों ने आपको देखा तो पानी की किल्लत की शिकायत की तो आपने फरमाया कि एक डोल पानी लाओ जब पानी आ गया तो आपने उसमें थे थोड़ा सा मुंह में लिया और डोल में कुल्ली कर दी और फरमाया कि इसे कुंअे में डाल दो,जैसे ही कुंअे में वो पानी डाला गया कुंआ पानी से लबरेज़ हो गया और पहले से ज़्यादा ज़ायकेदार भी हो गया*

📕 इब्ने सअद,जिल्द 5,सफह 144

ये वही हुसैन बिन अली हैं जिन पर कर्बला में 3 दिन तक पानी बंद कर दिया गया मगर ये रब की रज़ा थी जिस पर आप राज़ी थे वरना कसम खुदा की आप ज़मीन पर एक ठोकर मार देते तो फुरात आपके खेमे से होकर बहती

*मैदाने कर्बला में एक जहन्नमी मालिक बिन उरवा ने आपके खेमो में आग जलती हुई देखी तो बेबाकी से कहा कि ऐ हुसैन तुमने तो जहन्नम से पहले ही आग जला ली इतना सुनना था कि आप जलाल में फरमाते हैं कि ज़ालिम क्या तेरा ये गुमान है कि हुसैन जहन्नम में जायेगा आपने दुआ की कि ऐ मौला इसे जहन्नम से पहले ही दुनिया की आग का मज़ा चखा,अभी ज़बान से ये निकला ही था कि उसका घोड़ा बिदका वो गिरा उसका पैर लगाम में उलझा और घोड़ा उसे घसीटते हुए एक आग की खन्दक में फेंक आया*

📕 रौज़तुश शुहदा,सफह 230

कर्बला की ये करामत भी ज़ाहिर करती है कि आप मजबूर ना थे बल्कि मुखतार थे मगर बस वही कि खुदा की रज़ा में राज़ी थ

*ALLAHUMMA SALLE WASALLIM WABARIK ALAIHI WA ALAIHIM WA ALAL MAULAS SAYYADIL IMAAME HUSAIN RAZIYALLAHU TAALA ANHU*

Naam —– Sayyadna imaam HUSAIN raziyallahu taala anhu

Laqab —- Sibte rasool,raihanatur rasool,sayyadus shuhda

Waalid — Maula ali raziyallahu taala anhu

Walida — Khatune jannat hazrate fatima zohra raziyallahu taala anha

Wiladat – 5 shaaban,4 hijri

Biwiyan – 4,Shahar bano-Rubaab bint imra al qais-Laeela bint abi murrah al thaqafi,Umme ishaq bint talha bin ubaidullah

Aulaad — 6,Hazrat zainul aabedeen wa hazrate sakina shahar baano se,hazrat ali akbar wa fatima sughra layla se,hazrat ali asgar wa sukaina rubaab se

Wisaal — 10 muharram,61 hijri,juma

Umr — 56 saal 5 mahine 5 din

Aapke fazayal me beshumar hadisein waarid hain husule barkat ke liye chund yahan zikr karta hoon

*Huzoor sallallaho taala alaihi wasallam farmate hain ki husain mujhse hai aur main husain se hoon aur farmate hain ki jisne husain se muhabbat ki usne mujhse muhabbat ki aur jisne mujhse muhabbat ki usne khuda se muhabbat ki*

📕 Mishkat,safah 571

*Huzoor sallallaho taala alaihi wasallam farmate hain ki jo chahta ho ki jannati jawano ke sardaar ko dekhe to wo husain ko dekh le*

📕 Noorul absaar,safah 114

*Huzoor sallallaho taala alaihi wasallam ne ek martaba imaam husain ko dekhkar farmaya ki aaj ye aasman waalon ke nazdeek tamam zameen waalo se afzal hai*

📕 Ashsharaful moabbad,safah 65

*Huzoor sallallaho taala alaihi wasallam ne imaam husain raziyallahu taala anhu par apne bete hazrate ibraheem raziyallahu taala anhu ko qurban kar diya*

📕 Shawahidun nubuwat,safah 305

*Huzoor sallallaho taala alaihi wasallam इरशाद फरमाते हैं कि hasan ke liye meri haibat wa siyadat hai aur husain ke liye meri jurrat wa sakhawat hai*

📕 Ashsharaful moabbad,safah 72

*Imaam husain raziyallahu taala anhu bahut badi fazilat ke maalik hain aap kasrat se namaz roza hajj zakat wa deegar umure khair kiya karter the aapne paidal chalkar 25 hajj kiye hain*

📕 Barkaate aale rasool,safah 145

*KARAMAAT-Abu aun farmate hain ki hazrat imaam husain raziyallahu taala anhu ka guzar kasba ibne mutee ke paas se hua,wahan ek kunwa tha jisme paani bahut kam rah gaya tha yahan tak ki dol bhi bharkar oopar na aa pata tha jab logon ne aapko dekha to paani ki killat ki shikayat ki to aapne farmaya ki ek dol paani lao jab paani aa gaya to aapne usme the thoda sa munh me liya aur dol me kulli kar di aur farmaya ki ise kunwe me daal do,jaise hi kunwe me wo paani daala gaya kunwa paani se labrez ho gaya aur pahle se zyada zaykedaar ho gaya*

📕 Ibne sa’ad,jild 5,safah 144

Ye wahi husain bin ali hain jin par karbala me 3 din tak paani bund kar diya gaya magar ye rub ki raza thi jispar aap raazi the warna kasam khuda ki aap zameen par ek thokar maar dete to furaat aapke kheme se hokar bahti

*Maidane karbala me ek jahannami maailk bin urwa ne aapke khemo me aag jalti huyi dekhi to bebaaki se kaha ki ai husain tumne to jahannam se pahle hi aag jala li itna sunna tha ki aap farmate hain ki zaalim kya tera ye gumaan hai ki husain jahannam me jayega aapne dua ki ki ai maula ise jahannam se pahle duniya ki aag ka maza chakha,abhi zabaan se ye nikla hi tha ki uska ghoda bidka wo gira uska pair lagaam me uljha aur ghoda use ghaseette hue ek aag ki khandak me phenk aaya*

📕 Rauzatus shuhda,safah 230

Karbala ki ye karamat bhi zaahir karti hai ki aap majboor na the balki mukhtar the magar bas wahi ki khuda ki raza me raazi the

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s