Sadaat ki Azmat आले रसूल ( सैयद ) की शान

::आले रसूल ( सैयद ) की शान ::

– सैयदो को तकलीफ पहोचाने वालो , उनसे बुग्ज रखने वालो जरा एक नजर ईन hadith पाक पर भी करो

– हूजुर सल्ललाहो अलयहे वसल्लम ने फरमाया , ” उस जालिम पर अल्लाह का सख्त अजाब हुआ जिसने मेरी ऐहलेबैत ( औलाद ) को तकलीफ पहुचाई

– हजरते उस्माने गनी ( रदिअल्लाहो अन्हो ) से रिवायत है कि सरकार सल्ललाहो अलयहे वसल्लम ने फरमाया , ” जिस सख्स ने दनिया मे मेरी ऐहलेबैत ( सैयद ) से कोई नेकी , अच्छा सुलुक या अहसान किया फिर वो सैयद उसका बदला ना दे सका तो कयामत के दिन मै अपनी औलाद ( सैयद ) की तरफ से उनका पुरा बदला अदा करुंगा
( अबु नईम )

– हजरत जाबीर बीन अब्दुल्लाह ( रदिअल्लाहो अन्हो ) से रिवायत है की , हूजुर सल्ललाहो अलयहे वसल्लम ने ईर्शाद फरमाया , ” ऐ लोगो ! जो सख्स ऐहलेबैत ( सैयद ) से बुग्ज व अदावत रखेगा उसे कयामत के दिन अल्लाह तअाला उसकी कब्र से ‘ यहुदी ‘ बनाकर उठायेगा
( तिबरानी )

– हूजुर सल्ललाहो अलयहे वसल्लम ने फरमाया , खबरदार !!!! होके सुनलो , जो सख्स ऐरलेबैत ( सैयद ) आले रसूल से बुग्ज और अदावत मै मरा वो कयामत के दिन ऐसी हालत मे उठेगा कि उसकी दोनो आंखो के दरमियान लिखा होगा ,
” अल्लाह तआला की रहमत से महरुम है ! “
और आगाह हो जाओ , जो ऐहलेबैत ( सैयद ) के बूग्ज और अदावत मे मरा वो जन्नत की खुश्बु से महरुम कर दिया जायेगा
( तफसीरे कबीर जिल्द – 2 , सफा – 29 )

– हुजूर सल्ललाहो अलयहे वसल्लम ने इर्शाद फरमाया कोई बन्दा कामिल मोमिन नही हो सकता , जब तक मे उसे उसकी जान से ज्यादा महबूब ना हो जाऊ और मेरी औलाद ( सैयद ) उसकी औलाद से ज्यादा महबूब ना हो
(बयहक्की , दयालमी )

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s