अली ही आलिम है अली ही इल्म है

WhatsApp Image 2019-07-11 at 1.29.47 PM

अली ही आलिम है अली ही इल्म है
🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸

आलिम के मानी है इल्म वाला।

इसलिए वो शख्स तब तक आलिम नहीं बन सकता जब तक बाबे मदिनतुल इल्म से ना गुज़रे।

और इस दरवाज़े से वही गुज़रता है जो मौला अली अलैहिस्सलाम को अपना मौला और इमाम तस्लीम करता है और वही हक़ीक़ी आलिम है और उस के अलावा जो आलिम होने का दावा करे वो आलिम नहीं जाहिल अहमक है।

नुबूवत का सिलसिला खत्म हुआ इमामत का सिलसिला जारी हुआ जिस्का आगाज़ रसुलल्लाह अलैहीस्सलाम ने गदीर के मैदान मे सवा लाख सहाबा के मजमे मे इस एलान से किया

“मन कुंतो मौला फहाज़ा अलिय्युन मौला”

यानी
मैं जिसका मौला अली उसका मौला

इमामत का आगाज़ इमाम अली अलैहीस्सलाम से शुरु हुआ और इसका इख्तिताम (End) मौला इमाम महदी अलैहीस्सलाम पर होगा।

बादे रिसालत के इमामत वो दर्जा ए लासानी है जहाँ नुबूवत के अलावा हर जीन्स के सर ख़म होते है।
जिसको जो कुछ मिलेगा अली इब्न अबी तालिब अलैहिस्सलाम के घर से ही मिलेगा। इसके अलावा किसी और दर का तसव्वुर ही नहीं।

क्युंकि रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का इरशादे पाक है

“मन कुंतो मौला फहाज़ा अलिय्युन मौला”

मैं जिसका मौला अली उसका मौला

ये हुक्मे रिसालत किस क़दर गहराई को समेटे हुए है ये राज़ अहले मारिफ़त ए अहलेबैत पर ही अफशां है।
इस को वही समझ सकता है जो आरिफ ए नूर ए मुहम्मदी हो। और ये नूरे मुहम्मदी जो नूरे इलाह है पांच तन मे जल्वानुमा है।
पन्जतन जिसमे मौला अली उनकी ज़ौजा माँ फातीमा और मौला हसन और मौला हुसैन का शुमार है (अलैहीमुस्सलाम)

इसलिये जिस जिस ने मौला अली अलैहीस्सलाम पर और आपके वलीद जनाबे अबू तालिब पर और आपकी औलाद पर किसी भी मामले मे तन्क़ीद की है, वो किसी किस्म की भलाई को नही पा सकता!! दर्जा ए विलायत तो बहोत दूर की बात है।

ये वो घराना है जिन पर कोई बहस होनी ही नही चाहिये।

(मौला अली अलैहीस्सलाम के सैय्यद होने पर बहस आपके वलीद जनाबे अबू तालिब अलैहीस्सलाम के ईमान पर बहस, पन्जतन के नूरी होने पर बहस, उनके मासूम होने पर बहस उन्हे अलैहीस्सलाम कहने पर बहस ये तमाम बहस ईमान को बर्बाद करने वाली, हर खैर से महरूम करने वाली, आखिरत बर्बाद करने वाली है। चाहे वो लाख नमाज़े पढ़ ले।)

और ऐसे शख्स की पैरवी करना उसे पीर, उस्ताद मानना जो ईन बहसों मे मुब्तिला है महज़ गुमराही और हलाक़त है।

🇲🇷
मुनकिर को गुजरने की यहाँ ताब नहीं है

माथे का निशान इतना भी नायाब नहीं है

है बुग्ज़े अली दिल में तो पढ़ लाख नमाज़ें

ये बुग्ज़ का धब्बा है मेहराब नहीं है

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s